Header Ads

दार्जिलिंग में चल रहे गोरखालैंड आंदोलन का सिक्किम राज्य के पर्यटन उद्योग पर इस बार भी पड़ा बहुत बुरा असर


गंगटोक। पृथक गोरखालैंड राज्य की मांग को लेकर पश्चिम बंगाल की दार्जिलिंग पहाड़ियों में जून से चल रहे आंदोलन ने सिक्किम के पर्यटन उद्योग पर बहुत बुरा असर डाला है। पर्यटन मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकड़े के अनुसार चीन की सीमा से सटे नाथुला दर्रे और गुरुडोंगमार झील जैसी सुरम्य स्थलों के लिए चर्चित सिक्कम में इस साल जुलाई में बस 1000 विदेशी और 8931 घरेलू पर्यटक आए। अगस्त का महीना भी कुछ ज्यादा अच्छा नहीं रहा। सड़क, रेल या विमान से सिक्किम पहुंचने के लिए पर्यटक को दार्जिलिंग पहाड़ियों से गुजरना होता है। सिक्किम भारत के विमान एवं रेल मानचित्र से अब भी दूर है। सिक्किम होटल एंड रेस्टॉरेंट एसोसिएशन की अध्यक्ष पेमा लाम्था ने कहा था कि दार्जिलिंग में हिंसा भड़कने के बाद जुलाई से 70-80 पर्यटकों ने अपनी होटल बुकिंग रद्द करा ली है। हालांकि, जीजेएम ने दार्जिलिंग पहाड़ियों में 104 दिनों की अपनी हड़ताल निलंबित कर दी लेकिन स्थिति अब भी अच्छी नहीं है।

No comments

Powered by Blogger.