Header Ads

देहरादून में खुलेगा 'गोरखा भर्ती सेंटर' , मसूरी विधायक गणेश जोशी के प्रस्ताव पर सेना प्रमुख ने भरी हामी


देहरादून : देव भूमि उत्तराखंड राज्य से बेहद तेजी से बढ़ते हुए पलायन को रोकने के लिए यहां स्थानीय स्तर में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना बेहद जरूरी हो चुका है। इसके लिए भारतीय सेना आगे आई है। उत्तराखंड के गोरखा नौजवानों को सेना में शामिल करने के लिए देहरादून में ‘गोरखा भर्ती सेंटर’ शुरू किया जाएगा। मसूरी के विधायक गणेश जोशी ने इसका प्रस्ताव सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत के सामने रखा था जिस पर विपिन रावत ने अपनी सहमति दे दी है। दूसरी तरफ सेवायोजन कार्यालय भी कंपनियों के साथ मिलकर 17 मार्च को रोजगार मेले का आयोजन भी कर रही है। नौजवान अपना पंजीकरण कराकर इसमें भाग ले सकते हैं।

सेना में भागीदारी बढ़ाने के लिए गोरखा नौजवानों की होगी भर्ती
गौरतलब है कि प्रदेश के गोरखा नौजवानों की सेना में भागीदारी बढ़ाने के लिए देहरादून में गोरखा भर्ती सेंटर शुरू किया जाएगा। मसूरी के विधायक गणेश जोशी ने इसके लिए सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत के सामने इसका प्रस्ताव रखा था जिसके लिए उन्होंने अपनी सहमति जता दी है। गणेश जोशी ने सेवानिवृत्त सैन्य कर्मियों की चिकित्सा के लिए देहरादून में ईसीएचएस सुविधा दिए जाने की मांग की। जिस पर जनरल रावत ने हामी भरी। 

विधायक जोशी ने राज्य के युवाओं को भर्ती के लिए लंबाई में और छूट देने की भी मांग की, जिस पर सेना और रक्षा मंत्रालय के बीच बातचीत की बात जनरल रावत ने कही। पहाड़ों से पलायन रोकने के लिए जम्मू-कश्मीर की तर्ज पर यहां सेना की देखरेख में हर घर में सेब और अखरोट के पेड़ लगाने की बात कही, इस पर जनरल रावत ने उन्हें भरोसा दिलाया कि टेरिटोरियल आर्मी के जरिए ऐसा किया जा सकता है। 



Powered by Blogger.