Header Ads

BJP सांसद डॉ. उदित राज ने लोकसभा में उठाया सिक्किम के लिम्बू - तमांग जनजाति के आरक्षण का मामला



नई दिल्ली/गंगटोक : लिम्बु-तमाग अनुसूचित जनजाति समुदाय को विधानसभा में सीट आरक्षण सुनिश्चित करने की माग गुरूवार को लोकसभा में भी उठी। नार्थ-वेस्ट दिल्ली के भाजपा लोकसभा सांसद  डा. उदित राज ने यह मुद्दा उठाया। उन्होंने गुरूवार शाम को शुन्यकाल के दौरान संसद में 8 जनवरी 2003 में इन समुदायों को अनुसूचित जनजाति की सूची में अधिसूचित की गई। लेकिन इसके बावजूद 2004 के आम चुनाव में यह अनुसूचित जनजाति को सामान्य सीट से चुनाव लड़ना वाध्य होने से तथा इस मामले में 2006 में सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट द्वारा जनवरी 2016 को चार माह दरमियान गृह मंत्रालय को निर्देशित करने की जानकारी दी गई। उन्होंने एक साल से अधिक होने के बावजूद समाधान नहीं होने का जिक्र किया।  उन्होंने इन समुदाय को राजनैतिक अधिकार से वंचित रखने का भी विचार व्यक्त किया। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री को अति शीघ्र समाधान हेतू कार्रवाई करने की माग किया है। 

दूसरी ओर गंगटोक में लोकसभा कार्रवाई की सीधा प्रशारण देख रहे गोरखा एपेक्स कमेटी चीफ कंवेनर पासाग शेर्पा ने बताया कि हमारे संगठन डा. उदीत राज प्रति आभारी है। हालाकि हमारे संगठन ने इस मामले की उठाने के लिए पिछले महीने 27 फरवरी 2017 को उन से नई दिल्ली में मुलाकात किया था, क्योंकि वे नेशनल इंडिया कंफिडरेशन आफ सेड्यूल कास्ट एडं सेड्यूल ट्राइब के आर्गनाजेशन के अध्यक्ष भी है। उन्होंने लिम्बु-तमाग समुदाय को सिक्किम विधानसभा में सीट आरक्षण सुनिश्चित करने हेतू आर्गनाइजेशन के पक्ष तथा खुद लोकसभा सांसद होने के नाते भी पहल करने की प्रतिबद्धता व्यक्त किया था। इस दौरान उन्हें ज्ञापन पत्र भी सौंपा गया था।

Powered by Blogger.