Header Ads

उत्तराखंड चुनाव: बीजेपी-कांग्रेस के बीच टक्कर, जानिए 2012 में किसने बजाया जीत का डंका


देहरादून : उत्तराखंड में सत्ता की जंग सीधे-सीधे सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस और विपक्षी पार्टी बीजेपी के बीच है। देखना यह है कि कांग्रेस अपना गढ़ बचाने में कामयाब हो पाती है या फिर बीजेपी, कांग्रेस के किले में सेंधमारी करने में सफल रहती है। ज्यादातर ओपिनियन पोल्स में बीजेपी को बहुमत मिलता हुआ दिखाया गया है। उत्तराखंड विधानसभा की 70 सीटों में से बीजेपी को 40 से ऊपर सीटें मिलने का अनुमान है। हालांकि ओपिनियन पोल्स के ही मुताबिक हरीश रावत सीएम के रूप में लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं। रावत की लोकप्रियता में भारी इजाफा हुआ है।

चुनाव से पहले कहा जाता आ रहा है कि उत्तराखंड की सत्ता की जंग “सोनिया कांग्रेस” और “मोदी कांग्रेस” के बीच है। लंबे समय से कांग्रेस का हाथ थामे रहे राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, कांग्रेस के कद्दावर नेता रहे यशपाल आर्य समेत अन्य नेताओँ द्वारा बीजेपी का दामन थामने की गणित ने चुनाव को रोमांचक मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है। विजय बहुगुणा के बेटे को बीजेपी ने टिकट दिया है। 11 मार्च को इस रहस्य से पर्दा उठ जाएगा कि सूबे की कमान बीजेपी को मिलेगी या फिर कांग्रेस के पास ही रहेगी।

2012 में भी कांग्रेस और बीजेपी के बीच थी कड़ी टक्कर
उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2012 में भी बीजेपी और कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर हुई थी। विधानसभा की कुल 70 सीटों पर कांग्रेस 32 सीटों पर विजयी रही तो बीजेपी 31 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर काबिज हुई। बीजेपी और कांग्रेस के बीच महज एक सीट का अंतर था। कांग्रेस बहुमत से तीन सीट दूर थी। बसपा को 3 सीटें, निर्दलीय को एक सीट और उत्तराखंड क्रांति दल को एक सीट मिली थी।

क्रमांक - विधान सभा सीट- विजेता प्रत्याशी (पार्टी) - रनरअप प्रत्याशी (पार्टी)

1)- पुरोला (एससी) – मलचंद (बीजेपी) – राजकुमार (कांग्रेस)
2)- यमुनोत्री – प्रीतम सिंह पंवर (यूकेडीपी) – केदार सिंह रावत (कांग्रेस)
3)- गंगोत्री – विजाईपाल सिंह साजवान (कांग्रेस) – गोपाल सिंह रावत (बीजेपी)
4)- बद्रीनाथ – राजेंद्र सिंह भंडारी (कांग्रेस) – प्रेम भल्लभ भट्ट (बीजेपी)
5)- थराली (एससी) – डॉ जीत राम (कांग्रेस) मगन लाल (बीजेपी)
6)- कर्णप्रयाग – अनुसुइया प्रसाद माईखुरी (कांग्रेस) – सुरेंद्र सिंह नेगी (निर्दलीय)
7)- केदारनाथ – शैला रानी रावत (कांग्रेस) – आशा (बीजेपी)
8)- रूद्रप्रयाग – हरक सिंह रावत (कांग्रेस) – मतबर सिंह खंडारी (बीजेपी)
9)- घनशाली (एससी) – भीम लाल आर्य (बीजेपी) – धनी लाल शाह (कांग्रेस)
10)- देवप्रयाग – मंत्री प्रसाद नैथानी (निर्दलीय) – दिवाकर भट्ट (बीजेपी)
11)- नरेन्द्र नगर – सुबोध उनियाल (कांग्रेस) ओम गोपाल रावत (बीजेपी)
12)- प्रतापनगर – विक्रम सिंह नेगी (कांग्रेस) – विजय सिंह (बीजेपी)
13)- टिहरी – दिनेश धनाई (निर्दलीय) – किशोर उपाध्याय (कांग्रेस)
14)- धनोल्टी – महावीर सिंह (बीजेपी) – मनमोहन सिंह (कांग्रेस)
15)- चकराता (एसटी) – प्रीतम सिंह (कांग्रेस) – मुन्ना सिंह चौहान (यूजेपी)
16)- विकासनगर – नव प्रभात (कांग्रेस) – कुलदीप कुमार (बीजेपी)
17)- सहसपुर – सहदेव सिंह पुंडीर (बीजेपी) – आर्येंद्र शर्मा (कांग्रेस)
18)- धरमपुर – दिनेश अग्रवाल (कांग्रेस) – प्रकाश सुमन ध्यानी (बीजेपी)
19)- रायपुर – उमेश शर्मा (कांग्रेस) – त्रिवेंद्र सिंह रावत (बीजेपी)
20)- राजपुर रोड (एससी) – राजकुमार (कांग्रेस) – रविंद्र सिंह कटारिया (बीजेपी)
21)- देहरादून कैंट – हरबंस कपूर (बीजेपी) – देवेंद्र सिंह सेठी (कांग्रेस)
22)- मसूरी – गणेश जोशी (बीजेपी) – जोत सिंह गुनसोला (कांग्रेस)
23)- डोईवाला – रमेश पोखरियाल निशंक (बीजेपी) – हीरा सिंह बिष्ट (कांग्रेस)
24)- ऋषिकेश – प्रेमचंद अग्रवाल (बीजेपी) – राजपाल खरोला (कांग्रेस)
25)- हरिद्वार – मदन कौशिक (बीजेपी) – सतपाल ब्रह्मचारी (कांग्रेस)
26)- भेल रानीपुर – आदेश चौहान (बीजेपी) – अबरीस कुमार (निर्दलीय)
27)- ज्वालापुर (एससी) – चंदेर शंकर (बीजेपी) – मदन लाल (बीएसपी)
28)- भगवानपुर (एससी) – सुरेंद्र राकेश (बीएसपी) – सत्यपाल सिंह (कांग्रेस)
29)- झबरेड़ा (एससी) – हरि दास (बीएसपी) – राजपाल (कांग्रेस)
30)- पिरान कलियर – फुरकान अहमद (कांग्रेस) शहजाद (बीएसपी)
31)- रुड़की – प्रदीप बत्रा (कांग्रेस) – सुरेश चंद जैन (बीजेपी)
32)- खानपुर – कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन (कांग्रेस) – कुलवीर सिंह (बीएसपी)
33)- मंगलौर – सरवत करीम अंसारी (बीएसपी) – काजी मोहम्मद निजामुद्दीन (कांग्रेस)
34)- लक्सर – संजय गुप्ता (बीजेपी) – हाजी तस्लीम अहमद (बीएसपी)
35)- हरिद्वार ग्रामीण – यतीश्वरानंद (बीजेपी) – इरशाद अली (कांग्रेस)
36)- यमकेश्वर – विजय ब्राथवाल (बीजेपी) – सरोजनी देवी (कांग्रेस)
37)- पौड़ी (एससी) – सुंदरलाल (कांग्रेस) – घनानंद (बीजेपी)
38)- श्रीनगर – गणेश गोडियाल (कांग्रेस) – धन सिंह रावत (बीजेपी)
39)- चौबट्टाखाल – तीरथ सिंह (बीजेपी) राजपाल सिंह बिष्ट (कांग्रेस)
40)- लैंसडाउन – दलेप सिंह रावत (बीजेपी) – लेफ्टिनेंट जनरल तेजपाल सिंह रावत (यूटीआरएम)
41)- कोटद्वार – सुरेंद्र सिंह नेगी ( कांग्रेस) – रिटायर्ड मेजर जनरल भुवन चंद्र खंडूरी (बीजेपी)
42)- धारचूला – हरीश धामी (कांग्रेस) – खुशहाल सिंह (बीजेपी)
43)- दीदीहाट – बिशेन सिंह चुहफाल (बीजेपी) – रेवती जोशी (कांग्रेस)
44)- पिथौरागढ़ – मयूख सिंह (कांग्रेस) – प्रकाश पंत (बीजेपी)
45)- गंगोलीहाट (एसी) – नारायणराम आर्य (कांग्रेस) – गीता ठाकुर (बीजेपी)
46)- कपकोट – ललित फरसवान (कांग्रेस) – बलवंत सिंह (बीजेपी)
47)- बागेश्वर (एससी) – चन्दन राम दास (भाजपा) – राम प्रसाद टम्टा (कांग्रेस)
48)- द्वाराहाट – मदन सिंह बिष्ट (कांग्रेस) – पुष्पेश त्रिपाठी (यूकेडीपी)
49)- सल्ट – सुरेन्द्र सिंह जीना (भाजपा) – रंजीत रावत (कांग्रेस)
50)- रानीखेत – अजय भट्ट (भाजपा) – करन माहारा (कांग्रेस)
51)- सोमेश्वर (एससी) – अजय टम्‍टा (भाजपा) – रेखा आर्य (निर्दलीय)
52)- अल्मोड़ा – मनोज तिवारी – (कांग्रेस) – रघुनाथ सिंह चौहान (बीजेपी)
53)- जागेश्वर – गोविन्द सिंह कुंजवाल (कांग्रेस) – बाची सिंह (बीजेपी)
54)- लोहाघाट – पूरण सिंह (भाजपा) – महेंद्र सिंह माहरा (कांग्रेस)
55)- चंपावत – हेमेश खर्कवाल (कांग्रेस) – मदन सिंह (बीएसपी)
56)- लालकुआं – हरीश चन्द्र दुर्गापाल (निर्दलीय) – नाविन चंद्र दुमका (बीजेपी)
57)- भीमताल – दान सिंह भण्डारी (भाजपा) – मोहन पाल (बीएसपी)
58)- नैनीताल (एससी) – सरिता आर्य कांग्रेस – हेमचंद्र आर्या (बीजेपी)
59)- हल्द्वानी- डॉ इन्दिरा हृदयेश (कांग्रेस) – रेणु अधिकारी (बीजेपी)
60)- कालाढूंगी – बंशीधर भगत (भाजपा) – प्रकाश जोशी (कांग्रेस)
61)- रामनगर – अमृता रावत (कांग्रेस) – दीवान सिंह (बीजेपी)
62)- जसपुर – डॉ॰ शैलेन्द्र मोहन सिंघल (कांग्रेस) – मोहम्मद उमर (बीएसपी)
63)- काशीपुर – हरभजन सिंह चीमा (भाजपा) – मनोज जोशी (कांग्रेस)
64)- बाजपुर (एससी) – यशपाल आर्य (कांग्रेस) – राजेश कुमार (बीजेपी)
65)- गदरपुर – अरविन्द पाण्डे (भाजपा) – जरनैल सिंह (निर्दलीय)
66)- रुद्रपुर – राजकुमार ठुकराल (भाजपा) – तिलक राज बेहर (कांग्रेस)
67)- किच्छा – राजेश शुक्ला (भाजपा) – सरवर यार खान (कांग्रेस)
68)- सितारगंज – किरण मण्डल (भाजपा) – नारायण पाल (बीएसपी)
69)- नानकमत्ता (एसटी) – डॉ प्रेम सिंह (भाजपा) – गोपाल सिंह राणा (बीजेपी)
70)- खटीमा – पुष्कर सिंह धामी (भाजपा) – दवेंद्र चंद (कांग्रेस)


Powered by Blogger.