Header Ads

अलग राज्य गोरखालैंड, जाति व अस्मिता के लड़ाई के लिए समर्पित: गुरूंग


कर्सियांग : गोजमुमो प्रमुख विमल गुरूंग ने कहा कि मैं जाति व अस्मिता की लड़ाई के लिए समर्पित हूं। आज जिस तरीके से यहा के विभिन्न संघ - संस्था व समाज आदि के प्रतिनिधियों ने मुझे इस प्रागण में खदा - माला भेंट किया, उससे मुझे ऐसा अनुभव महसूस हो रहा है कि मैंने कुछ कार्य किया है। मेरे सभासदों ने भी गाव, समाज व क्लब आदि के लिए कुछ कार्य किया है। मंगलवार को गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन कर्सियाग अभियांत्रिकी विभाग द्वारा वालीभिल्ला परिसर में आयोजित शिलान्यास व भूमिपूजन कार्यक्रम को वे संबोधित कर रहे थे। 

उन्होंने कहा कि मैं किसी भी शिलान्यास कार्यक्रम में अपने हाथों से नारियल नहीं फोड़ता हूं। सभासदों या विधायक के हाथ से फोड़वाता हूं। कारण अभी तक हमनें लक्ष्य हासिल नहीं किया है। हमने प्रण किया है कि जब तक अलग राज्य गोरखालैंड का गठन नहीं होगा, तब तक मैं नारियल नहीं फोडूंगा। जब कार्य हो जायेगा, तब मैं प्रत्येक क्षेत्र में जाकर नारियल फोडूंगा। मुझे डेढ़ करोड़ गोरखाओं सहित इस क्षेत्र में रहनेवाले संपूर्ण जाति के लोगों ने अलग राज्य गोरखालैंड का दायित्व सुपुर्द किया है। उन्होंने कहा कि मैंने एक प्रतिज्ञा के तहत यहा पर आज कुल चार परियोजनाओं को लेकर आया हूं। मेरे में रोजवैली व चिटफण्ड जैसा रुपया नहीं है। कर्सियाग की जनता के हित के लिए कुछ करने आया हूं। व्यक्तिगत रूपसे किसी का मकान बनाने नहीं आया हूं। आज जिस जगह पर मैंने अत्याधुनिक बहुउद्देशीय रंगशाला का शिलान्यास किया है। इस जगह आज से चार -पाच वर्ष पहले मैंने स्वच्छ भारत अभियान के तहत कर्सियाग क्षेत्र के विविध इलाकों में रहे कूड़े व गंदगी के ढेर को इकट्ठा करके तकरीबन 25 से 30 गाड़ी फेंकवाया था। अब इसी जगह में जनहित के लिए 34 करोड़ से अधिक रुपये का कार्य होगा।

प्रथम चरण के कार्य के लिए 10 करोड़ रुपये आवंटन

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण के कार्य के लिए 10 करोड़ रुपये आवंटन किये गये है। जाति व अस्मिता की लड़ाई में समर्पित होने के कारण आज यह प्रतीक्षा का फल है। पुराने डीआरसी गोदाम को तोड़कर अब उस जगह इंडोर बैडमिंटन कोट बनाया जायेगा। पानी की समस्याओं को समाधान करने के उद्देश्य से सिपाहीधुरा से कर्सियाग तक पानी पहुंचाने के लिए साढ़े तीन करोड़ रुपये की परियोजना का शुभारंभ किया जाएगा। यहा रंगशाला के नीचे तैयार किये जानेवाले रैन हार्वेस्टिंग में तकरीबन 22 लाख गैलन पानी रिजर्व रखा जायेगा। उन्होंने आगे कहा कि कर्सियाग में सार्वजनिक खेल मैदान नहीं है। इससे लोग वंचित हैं। यदि इस जगह के नीचे की ओर चाय बागान से जमीन मिलता तो एक बड़ा स्टेडियम बनवा देता। इसके लिए चाय बागान के मालिक से बात करना है। इस जगह के बदले अन्य कोई जगह बागान को दे दिया जाता। अभी कुछ नहीं हुआ है। छोटे - छोटे कार्य मात्र हो रहा है। मैं बेरोजगारों के लिए कुछ करना चाहता हूं। यहा यदि बेरोज़गारों के लिए उचित व्यवस्था हो जाये तो उत्तम हो जाता। बेरोज़गारों को पलायन नहीं होना पड़ता।

'विमल गुरूंग ईमान व इज्जत बेचनेवाला व्यक्ति नहीं'
उन्होंने कहा कि जीटीए ठीक तरीके से नहीं चल रहा है। बंगाल सरकार विभाग को ठीक तरीके से संचालन करने नहीं दे रहा है। विमल गुरूंग ईमान व इज्जत बेचनेवाला व्यक्ति नहीं है। मुझे भावी पीढ़ी के लिए कार्य करना है। सूबे के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर इंगित करते हुए उन्होंने कहा कि जीटीए व नगरपालिका मेरे.हाथ में नहीं है , ऐसा अपने भाषण में उन्होंने कहा था , और यह भी कहा था कि यह यदि मेरे हाथ में होता तो मैं बहुत कुछ विकासमूलक कार्य कर देता। परंतु मैने कहा कि गोरखा जाति को विकास नहीं, पहचान चाहिए। उन्होंने कहा कि गोरखा जाति देश को सुरक्षा प्रदान करनेवाला जाति है। उन्होंने कर्सियाग में एक ओल्ड एज होम बनाने के लिए जगह देखने का प्रोपोजल दिया। इसके लिए एमपी फण्ड से 50 लाख रुपये दिलाने का आश्वासन भी दिया। उन्होंने कहा कि ईश्वर चाहे तो सबकुछ हो सकता है! मुझे ईश्वर ने ही जीटीए प्रमुख बनाया है। ईश्वर चाहे धरती को भी पलट सकता है।

अत्याधुनिक बहुउद्देशीय रंगशाला का भूमिपूजन
इस दिन विमल गुरूंग ने अत्याधुनिक बहुउद्देशीय रंगशाला, बिहारी समाज कर्सियाग के लिए हिमगिरि हिन्दी भवन, इंडोर खेल के लिए बैडमिंटन हाल व पानी की परियोजना को अपग्रेडेशन करने के लिए भूमिपूजन व शिलान्यास कार्यक्रम में भाग लिया। उन्होंने प्रतिभा परिवार को अपनी ओर से एक लाख रुपये का आर्थिक अनुदान भी देने की घोषणा की। वही कर्सियाग के विधायक डा. रोहित शर्मा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस दौरान विभिन्न समाज, संघ-संस्था आदि की ओर से आये लोगों ने विमल गुरूंग का भव्य स्वागत भी किया। प्रतिभा परिवार के कलाकारों ने रंगारंग सास्कृतिक प्रस्तुति के तहत विभिन्न नृत्य पेश किया।
Powered by Blogger.