Header Ads

मशहूर निर्माता-निर्देशक तुलसी घिमिरे देहरादून के खलंगा युद्ध स्मारक को देखकर हुए भाव-विभोर



वीर गोरखा न्यूज नेटवर्क
देहरादून । नेपाली फिल्मों के मशहूर निर्माता, निर्देशक एवं अभिनेता तुलसी घिमिरे ने गोरखा इतिहास के ऐतिहासिक खलंगा युद्धभूमि को करीब से देखा। उन्होंने नालापानी स्थित यहां 1814 के ब्रिटिश- गोरखा युद्ध के दौरान प्रयोग की गई टॉप के गोले और युद्ध स्मारक को देखा। उस समय के युद्ध के क्षणों को याद करते हुए वह भाव विभोर हो गए। इस दौरान उनके साथ गोरखा टेरिटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन, दार्जिलिंग के लापसंग लामा भी मौजूद रहे। दोनों ने इस ऐतिहासिक जगह को खूब सराहा। गौरतलब है कि तुलसी घिमिरे को नेपाली सिनेमा का पितामाह कहा जाता है। उन्होंने 80 के दशक में एक।से एक बेहतरीन नेपाली चलचित्र का निर्माण किया। मुख्यत: कालिम्पोंग के घिमिरे वर्तमान में नेपाल में निवास करते है। उन्होंने 80 और 90 के दशक में बांसुरी, कुसुमे रुमाल, लाहुरे, दक्षिणा, दर्पण छाया आदि सुपरहिट नेपाली फिल्मों का निर्माण किया। लाहुरे और दक्षिणा फ़िल्म में उनके अभिनय को अभी तक याद रखा जाता है। घिमिरे अभी भी नेपाली फिल्मों के साथ नेपाली टीवी सीरियल्स में सक्रिय है।

दोनों शख्सियतों के साथ शहर के वरिष्ठ समाजसेवक और भारतीय मगर समाज समिति के मुख्य संरक्षक मेजर बीपी थापा, समाज सेवक गोविन्द सिंह थापा, समाज के सूर्यबिक्रम शाही एवं देविन शाही मौजूद रहे।



Powered by Blogger.