Header Ads

नार्थ बंगाल विश्वविद्यालय छात्रसंघ पर तृणमूल छात्र परिषद (TMCP) का कब्जा बरकरार


सिलीगुड़ी : नार्थ बंगाल विश्वविद्यालय (एनबीयू) के विधि विभाग के छात्रसंघ पर तृणमूल छात्र परिषद (टीएमसीपी) का इस साल भी कब्जा बरकरार रहा। जिसकी खुशी में टीएमसीपी समर्थकों ने बुधवार शाम कैंपस में रैली भी निकाली। टीएमसीपी ने सभी 16 सीटों पर निर्विरोध जीत हासिल की। इस दिन छात्रसंघ चुनाव हेतु नामांकन जमा करने की अंतिम तिथि। टीएमसीपी के अलावा अन्य किसी छात्र संगठन की ओर से नामांकन नहीं पड़े और टीएमसीपी की सभी 16 सीटों पर जीत हो गई। इस बारे में माकपा समर्थित छात्र संगठन एसएफआई के दार्जिलिंग जिला सचिव सौरभ दास ने कहा कि यह टीएमसीपी को कोई छात्रों के समर्थन से मिली जीत नहीं है। यह उसके आतंक की जीत है। 

टीएमसीपी के गुंडागर्दो ने हरेक कॉलेज एवं विश्वविद्यालय में जिस प्रकार गुंडागर्दी व आतंक का माहौल बना रखा है उसमें अन्य कोई भी छात्र संगठन की ओर से किसी को उम्मीदवार बनाया जाना उसकी जान जोखिम में डालने के समान है। इसलिए हम भी हमारे संगठन की ओर से कोई उम्मीदवार नहीं खड़ा कर पाए। टीएमसीपी अब भले ही इस जीत पर मगन हो ले,लेकिन यह लोकतंत्र की हार है। इन आरोपों को पूरी तरह मनगढ़ंत, राजनीति से प्रेरित व बेबुनियाद करार देते हुए टीएमसीपी के दार्जिलिंग जिलाध्यक्ष निर्णय रॉय ने कहा कि एसएफआई की पांव तले जमीन खिसक चुकी है। उसे एक भी उम्मीदवार तो दूर समर्थक नहीं मिल पा रहा। इसलिए बौखलाहट में एसएफआई वाले टीएमसीपी को बदनाम कर रहे हैं। टीएमसीपी मां-माटी-मानुष व लोकतंत्र के आदर्श में विश्वास रखने वालों का आदर्श संगठन है। 

Powered by Blogger.