Header Ads

उत्तराखंड : चुनाव से पहले गोरखा समुदाय के कलाकार संस्कृति विभाग में किए गए सूचीबद्ध


वीर गोरखा न्यूज नेटवर्क
देहरादून। 
जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव पास आ रहा है ठीक वैसे-वैसे राजनीतिक दलों ने गोरखा समुदाय को साधना शुरू कर दिया है। उसी कड़ी में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के सलाहकार एवं राज्यमंत्री राम कुमार वालिया द्वारा गोरखा समुदाय के कलाकारों को संस्कृति विभाग में सूचीबद्ध कराये जाने पर आज यहां गोर्खाली सुधार सभा में एक सभा आयोजित कर गढ़ी कैंट में सभा के पधादिकारियों द्वारा राम कुमार वालिया का स्वागत किया गया तथा आभार व्यक्त किया गया। वालिया द्वारा संस्कृति विभाग द्वारा आदेश की प्रति गोर्खाली सुधार सभा के अध्यक्ष भगवान सिंह छेत्री एवं अन्य पदाधिकारियों को सौंपी गयी। इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए वालिया ने कहा कि यह बड़े आश्चर्य की बात है कि गोरखा समाज के इतने मेधावी कलाकार होते हुए भी अब तक भी संस्कृति विभाग में सूचीबद्ध नही थे। जिससे संस्कृति विभाग की योजनाओं का लाभ गोरखा समुदाय के कलाकारों को नही मिल पा रहा था, तथा एक प्रकार से इस समुदाय के कलाकारों के साथ अन्याय हो रहा था, मैं चूँकि प्रदेश की संस्कृति का कार्य देख रहा हूँ इसलिए मेरा कर्तव्य था कि मेरे रहते किसी के साथ अन्याय ना हो तथा सभी समुदाय के कलाकारों को अपनी कला के प्रदर्शन करने का अवसर दिया जाए। 

 इस जिम्मेदारी को समझते हुए मैंने काफी समय पूर्व ही अपने अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए थे ,लेकिन फिर भी यथावत आदेश जारी नही हुए थे। कल मैंने इस कार्य को प्राथमिकता में लेते हुए यथावत संस्कृति विभाग से आदेश जारी करा दिए हैं,अब जब भी संस्कृति विभाग का सरकारी कार्यक्रम आयोजित होगा तो अन्य कलाकारों के साथ साथ गोरखा समाज के कलाकारों को अपनी कलां को प्रदर्शन करने मौका दिया। जायेगा इस अवसर पर गोरखा सुधार सभा के पदाधिकारियों द्वारा वालिया का इस कार्य हेतु आभार भी व्यक्त किया गया इस अवसर मुख़्य रूप से सुधार सभा अध्यक्ष कर्नल बी.एस.छेत्री, वरिष्ठ उपाध्यक्ष कर्नल एन. एस.थापा, उपाध्यक्ष सुनील थापा, महासचिव पदम् सिंह थापा,मीडिया प्रभारी प्रभा शाह,संजय मल्ल मौजूद रहे। इस अवसर पर सभा की सम्पूर्ण कार्यकारिणी शाखाध्यक्ष अशोक प्रधान, आर टी आई एक्टिविस्ट सुरेन्द्र थापा, विशाल थापा, हरी मोहन जी, विजेंदर सिंह बिष्ट, हेमंत बराल मौजूद रहे।








Powered by Blogger.