Header Ads

गोरखालैंड के पक्ष में नही केंद्र सरकार, जनता को मूर्ख बना रही गोजमुमो : क्षेत्री


कर्सियांग : गोरखा कल्याण मंच के अध्यक्ष कृष्णा क्षेत्री ने गोजमुमो पर गोरखालैंड के नाम पर मूर्ख बनाने का आरोप लगाया है। कर्सियांग में पत्रकार वार्ता करते हुए उन्होने कहा कि गत माह नवंबर उन्होने गोरखालैंड के नाम पर अनशन किया था तथा प्रधानमंत्री कार्यालय से प्राप्त पत्र के आधार पर 29 नवंबर को आमरण अनशन समाप्त किया था। क्षेत्री ने बताया कि केंद्र के पत्र के अनुसार केंद्र सरकार गोरखालैंड के पक्ष में नही है। अध्यक्ष के अनुसार अनशन को तोड़ने के लिए पश्चिम बंगाल के पर्यटन मंत्री गौतम देव भी आए थे। सभी विषयों को देखते हुए ही उन्होने अपना अनशन समाप्त किया है। क्षेत्री ने गोरखालैंड के लिए भविष्य में होने वाले सभी आंदोलन दिल्ली के केंद्र में करते हुए किए जाएंगे। आंदोलन में जनता को ना शामिल ना करने की बात भी कल्याण मंच अध्यक्ष ने कही। क्षेत्री के अनुसार वो शीघ्र ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत अन्य केंद्रीय नेताओं से मुलाकात कर अलग राज्य पर चर्चा करेंगे। उन्होने बताया कि पर्वतीय क्षेत्र के लोगों द्वारा भोगी जा रही समस्याओं पर विशेष तौर पर चर्चा करेंगे।

क्षेत्री ने बताया कि वर्ष 2013-14 में एसएससी,पीएससी व प्राथमिक शिक्षक के लिए परीक्षा देने वाले कुल 11 सदस्य असफल हुए थे। इस संबंध में असफल परिक्षार्थियों की मांग पर गैर राजनीतिक संस्था हरिमाया क्षेत्री मेमोरियल संस्था द्वारा जनसूचना अधिकार के तहत सूचना के लिए आवेदन किया गया था। जिसपर उच्च अदालत में वाद भी दायर किया गया था। अदालत ने पश्चिम बंगाल सरकार को अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने के आदेश दिए थे किंतु राज्य सरकार ने आज तक ऐसा नही किया। क्षेत्री के अनुसार राज्य सरकार द्वारा न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन किया जा रहा है। अध्यक्ष ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि राज्य सरकार ने इस ओर ध्यान नही दिया तो दोबारा इसके विरुद्ध वाद दायर किया जाएगा।

Powered by Blogger.