Header Ads

गोरखालैंड : राज्य सरकार के विरूद्ध आक्रामक हुई गोरखा जनमुक्ति युवा मोर्चा

 मिरिक : गोरखा जनमुक्ति मोर्चा का युवा संगठन लगातार राज्य सरकार के विरूद्ध आक्रामक होता जा रहा है और इसी क्रम में विरोध कार्यक्रमों की रूप रेखा बनाने का काम भी युवा मोर्चा ने शुरू कर दिया है। मिरिक के गोजमुमो पार्टी महकमा कार्यालय में पत्रकारों को संबोधित करते हुए गोजयुमो के प्रियवर्धन राई ने कहा कि बंगाल सरकार लगातार जीटीए के कामकाज में हस्तक्षेप कर पहाड़ क्षेत्र के विकास में रोड़ा उत्पन्न कर रही है। राई ने कहा कि जीटीए एक स्वायत्त संस्था है जिसको स्वतंत्र रूप से कार्य करने का अधिकार संविधान से प्राप्त है ऐसे में राज्य सरकार द्वारा लगातार हस्तक्षेप करना तथा जीटीए को संपूर्ण अधिकारों से वंचित रखना समझौते की धज्जियां उड़ाने के समान है। केंद्रीय अध्यक्ष ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि राज्य सरकार का यही रवैया जारी रहा तो जीटीए के सभी पार्षद सामुहिक त्यागपत्र देकर पृथक गोरखालैंड की मांग को लेकर आंदोलन की राह पकड़ लेंगे। सनद रहे कि कल ही जाति विकास बोर्ड गठन पर पार्टी की युवा इकाई ने क्षेत्र में राज्य सरकार के विरूद्ध पोस्टर लगाकर विरोध दर्ज करवाया था और जातियों को बांटने का आरोप लगाया था। उन्होने पत्रकारों को बताया कि गोजमुमो की मांग सत्ता नही बल्कि पृथक गोरखालैंड है जिसको पाने के लिए पार्टी तथा युवा मोर्चा किसी भी हद तक जाने को तैयार है।

राई ने कहा कि गोरखा जाति के प्रति बंगाल सरकार का रूख सकारात्मक नही है तथा राज्य सरकार ओछी राजनीति कर नए जाति विकास बोर्ड गठन कर गोरखा जाति में फूट डालने का कार्य कर रही है। उन्होने कहा कि राज्य सरकार गोरखा जाति तथा आचार्य भानुभक्त का कितना सम्मान करती है यह तो चौररास्ता के महान नेपाली कवि के जयंती समारोह कार्यक्रम में ही प्रदर्शित हो गया था। सनद रहे कि राज्य सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में रामायण धुन की जगह रविन्द्र संगीत बजाने का भी पार्टी ने विरोध किया है तथा कार्यक्रम में जीटीए सुप्रीमो को वक्तव्य रखने का अवसर ना देने पर भी पार्टी तथा युवा मोर्चा में भारी रोष है। एक पत्रकार के सवाल का जवाब देते हुए राई ने कहा कि अब समय आ रहा है कि राज्य सरकार के पहाड़ विकास को लेकर उदासीन रवैये के विरूद्ध दोबारा आंदोलन की राह पकड़ जनजातियों के विकास के लिए सार्थक पहल की जाए। उन्होने बताया कि इस मामले पर केंद्र सरकार के जनजाति मामलों के मंत्रालय को भी ज्ञापन प्रेषित किया गया है तथा जल्द ही संबंधित मंत्री से मुलाकात का प्रयास किया जाएगा।राई ने कहा कि गोरखा जाति और गोजमुमो पार्टी केंद्र सरकार से भी सकारात्मक सहयोग की अपेक्षा करती है।

जिलाधिकारी से मिलेगा गोराविमो का दल
कर्सियांग : गोरखा राष्ट्रीय मुक्ति मोर्चा के अधीन कार्य करने वाली ग्राम सुरक्षा समिति तथा गोरखा विद्यार्थी मोर्चा ने गोरखा जन पुस्तकालय भवन में एक संयुक्त सभा का आयोजन किया। इस सभा की अध्यक्षता सूरज घीसिंग ने की। सभा के मुख्य विषयों पर चर्चा करते हुए सूरज घीसिंग ने बताया कि सभा में गत 1 जुलाई को आए भूस्खलन से प्रभावित लोगों के पुनर्वास का कार्य अभी भी समुचित ढंग से नही किया गया है जिसके संदर्भ में पार्टी आगामी 18 जुलाई को जिलाधिकारी तथा महकमा शासक व अन्य अधिकारियों से मुलाकात कर ज्ञापन सौपेंगी तथा पीड़ितों के उचित पुनर्वास की मांग करेगी। उन्होने बताया कि कर्सियांग महकमा शासक से मिलकर क्षेत्र के होटल व रेस्टोरेंट व्यवसाय में पारदर्शिता व्यवस्था लागू करने की मांग की जाएगी। घीसिंग ने कहा कि पारदर्शिता ना होने के चलते युवा वर्ग दु‌र्व्यसनों का शिकार हो रहा है। ज्ञात हो कि पारदर्शिता की यह व्यवस्था दार्जिलिंग के होटलों व रेस्टोरेंट में पहले से ही लागू है।   


Powered by Blogger.