Header Ads

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बोले सौहार्दपूर्ण निवास स्थल दार्जिलिंग है 'मिनी इंडिया'


दार्जिलिंग। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि दार्जिलिंग विविधता में एकता के भारतीय संस्कार को सच्चे अर्थ में परिभाषित करता है। यह सिर्फ पर्यटन स्थल नहीं बल्कि भिन्न-भिन्न पंथ व संप्रदाय के लोगों का सौहार्दपूर्ण निवास स्थल है। सच्चे अर्थ में इसे मिनी इंडिया कहना गलत नहीं होगा। राष्ट्रपति पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा दार्जिलिंग के चौरास्ता पर आयोजित सम्मान समारोह में बोल रहे थे। वह दार्जिलिंग के चार दिवसीय दौरे पर हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उनकी छोटी बहन हैं। प्रदेश के विकास के लिए उनके द्वारा किए जा रहे प्रयास व कार्य सराहनीय हैं। 

भारत की विविधता का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि सवा सौ करोड़ के देश में एक साथ कई संस्कृतियों व भाषाओं का समागम मिलता है। यह अद्भुत है। विविधता में एकता ही इस देश का असली संस्कार है। वहीं पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने राष्ट्रपति के स्वागत में भव्य कार्यक्रम के आयोजन के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा कि प्रणब मुखर्जी जैसा राष्ट्रपति मिलना भारत के लिए सौभाग्य की बात है। इस दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हिमालय की पूर्वी-उत्तरी वादी में राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए कहा कि न सिर्फ क्षेत्र के लिए बल्कि राज्य सरकार के लिए भी राष्ट्रपति का सम्मान करना गौरव की बात है। उन्होंने दार्जिलिंग को देश का ड्रीमलैंड बताया।

ममता ने किया स्वागत
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी मंगलवार को दार्जिलिंग पहुंच गये. दोपहर 1.40 बजे वह राजभवन पहुंचे. उनके साथ राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी थे. राजभवन के द्वार पर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, उनके मंत्री और अधिकारी मौजूद थे. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुलदस्ता देकर राष्ट्रपति का स्वागत किया. राष्ट्रपति आज स्थानीय चौरस्ता में आयोजित नेपाली कवि भानुभक्त आचार्य के जन्मजयंती समारोह में वह हिस्सा ले रहे है. राष्ट्रपति हवाई मार्ग से दार्जिलिंग आने वाले थे, लेकिन सुबह से ही मौसम खराब होने के कारण वह सड़क मार्ग से यहां पहुंचे. बागडोगरा हवाई अड्डे से सुबह साढ़े दस बजे वह सड़क मार्ग से दार्जिलिंग के लिए निकले. रास्ते में कर्सियांग टूरिस्ट लॉज में करीब एक घंटा उन्होंने विश्राम किया. 

इसके बाद बाद वह फिर दार्जिलिंग के लिए रवाना हुए. राष्ट्रपति के आगमन को ध्यान में रखकर पूरे रास्ते में और दार्जिलिंग शहर में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये थे. राष्ट्रपति के कार्यक्रम के मद्देनजर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सोमवार की शाम को ही दार्जिलिंग पहुंच गयी थीं. वह यहां के सरकारी अतिथिगृह रिचमाउंड हिल्स में रुकी हुई हैं.  दोपहर करीब 12.30 बजे झमाझम बारिश के बीच छतरी लगाये पैदल चलकर वह राजभवन पहुंची। उनके साथ सरकार के मंत्री व अधिकारी भी थे. दोपहर डेढ़ बजे के बाद एक ही गाड़ी में सवार होकर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी राजभवन पहुंचे.








Powered by Blogger.