Header Ads

भारतीय सैन्य अकादमी (IMA) से 610 कैडेट हुए पास आउट, 45 विदेशी भी शामिल


देहरादून : भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद कुल 610 कैडेट ने एक रंगारंग पासिंग आउट परेड में हिस्सा लिया। इन कैडेट में छह मित्र देशों के 45 कैडेट शामिल हैं। दक्षिण पश्चिमी कमान के जीओसी-इन-सी और पासिंग आउट परेड के समीक्षा अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल शरत चंद ने प्रतिष्ठित अकादमी में प्रशिक्षण पूरा करने पर कैडेट को बधाई देते हुए उनसे अपने पेशेवर करियर में आईएम के साहस और विवेक के सिद्धांत को आत्मसात करने एवं बनाए रखने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि इससे कैडेट को पेशेवर क्षमता हासिल करने में मदद मिलेगी और उनमें विपरीत परिस्थितियों में निष्पक्ष आचार, नैतिकता, परिपक्वता एवं सहिष्णुता के गुण पैदा होंगे। 

लेफ्टिनेंट जनरल शरत चंद ने कैडेट से अकादमी में हासिल किए गए प्रशिक्षण के उच्च स्तर पर गर्व करने और उनका इस्तेमाल अपने अपने देशों की सेवा में करने के लिए कहा। उन्होंने कहा, ‘वर्दी धारण करने के साथ हमारी समाज के लिए योगदान देने एवं राष्ट्र निर्माण में मदद करने में एक निश्चित भूमिका होती है।’ प्रतिष्ठित सोर्ड ऑफ ऑनर सम्मान अकादमी के कैडेट राजेंद्र सिंह बिष्ट को दिया गया। ओवरऑल ऑर्डर ऑफ मेरिट में प्रथम आने के लिए बटालियन अंडर ऑफिसर अमन ढाका को जेंटलमेन कैडेट का स्वर्ण पदक दिया गया। 

अकादमी से पास आउट होने वाले कुल 565 कैडेट में से सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश (98) के हैं। इसके बाद बिहार (60) और हरियाणा (60) के हैं। महाराष्ट्र से 36, राजस्थान से 35, हिमाचल प्रदेश से 32, पंजाब से 27, तमिलनाडु से 21, दिल्ली से 20, केरल से 16, जम्मू-कश्मीर से 15, मध्य प्रदेश से 14, कर्नाटक से 13, पश्चिम बंगाल से 13, आंध्र प्रदेश से आठ, झारखंड से आठ, ओड़िशा से सात, असम से छह, तेलंगाना से चार, चंडीगढ़ से चार, गुजरात से चार, छत्तीसगढ़ से चार, मणिपुर से दो, मेघालय से एक, मिजोरम से एक और त्रिपुरा से एक कैडट हैं।



Powered by Blogger.