Header Ads

दार्जिलिंग : अलकेमिस्ट के चाय श्रमिक 72 घंटे की भूख हड़ताल पर

दार्जिलिंग : चाय श्रमिकों ने न्याय की मांग करते हुए गुरुवार से जिला अधिकारी कार्यालय के आगे 72 घंटे की भूख हड़ताल शुरू की है. दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र में अलकेमिस्ट ग्रुप के तीन चाय बागान हैं जिनमें धोत्रे बालासन, कलेज वैली और पेशोक चाय बगान शामिल हैं. इन चाय बागानों में कार्यरत श्रमिकों को पिछले 5-6 महीने से राशन नहीं मिल रहा है. श्रमिक संगठनों ने सहायक श्रमायुक्त, संयुक्त श्रमायुक्त और जिला प्रशासन के पास इसकी शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. इसके बाद मजबूर होकर गोजमुमो के श्रमिक संगठन दार्जिलिंग, तराई, डुआर्स प्लान्टेशन लेबर यूनियन के बैनर तले श्रमिकों ने 72 घंटे की भूख हड़ताल शुरू की है. भूख हड़ताल पर बैठनेवालों में कमल तामांग, बुद्ध कुमार देवान, मणि कुमार देवान, अनिल राई, पूरण राई, संजीव मंगर, विशाल बरदेवा, नवीन मंगर, अमर गुरूंग शामिल हैं. 

भूख हड़ताल पर बैठनेवालों का यूनियन के केंद्रीय अध्यक्ष पी टी शेर्पा, महासचिव सूरज सुब्बा, सहसचिव प्रशान्त प्रधान और कानूनी सलाहकार तिलोकचन रोका ने खादा माला पहनाकर स्वागत किया. सम्बोधन के क्रम में यूनियन प्रमुख शेर्पा ने 72 घंटे की भूख हड़ताल से न्याय नहीं मिलने पर आमरण अनशन पर बैठने की चेतावनी दी है. इस सिलसिले में आगामी 20 जून को जिला अधिकारी ने बैठक बुलायी है. इस बैठक में जोगमाया चाय बागान और पानीघट्टा चाय बागान को भी बुलाने की मांग की गयी है. शेर्पा ने पानीघट्टा और जोगमाया चाय बागानों में कार्यरत श्रमिकों की अवस्था को दयनीय बताया.


Powered by Blogger.