Header Ads

काबुल में आत्मघाती हमला, 2 भारतीय, 14 नेपाली सुरक्षाकर्मियों सहित 26 की मौत

 
काबुल : अफगानिस्तान की राजधानी काबुल सोमवार को तीन आत्मघाती हमलों से दहल उठा। इन हमलों में दो भारतीय,14 नेपाली सुरक्षा गार्ड सहित 26 लोग मारे गए हैं, जबकि 50 से ज्यादा घायल हैं। अफगान-तालिबान ने इन हमलो की जिम्मेदारी ली है। पुलिस ने बताया कि पहला हमला काबुल को जलालाबाद शहर से जोड़ने वाले मुख्यमार्ग पर एक मिनी बस पर स्थानीय समयानुसार सुबह छह बजे हुआ। हमलावर पैदल आया था और उसने बस के पास खुद को उड़ा दिया। इस हमले में 14 नेपाली सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई। ये सुरक्षाकर्मी काबुल स्थित कनाडा दूतावास के लिए काम करते थे। इस हमले में पांच नेपाली और चार अफगान नागरिक घायल हुए हैं। जिस जगह यह विस्फोट हुआ वहां कई विदेशी परिसर और सैन्य प्रतिष्ठान हैं।

दूसरा विस्फोट एक स्थानीय नेता को निशाना बनाकर किया गया। यह हल्का विस्फोट था। इस विस्फोट में एक व्यक्ति मारा गया और पांच अन्य घायल हो गए। काबुल में इन दो धमाकों के कुछ ही घंटे बाद अफगानिस्तान के बदखशान प्रांत के एक बाजार में हुए आत्मघाती हमले में कम से कम आठ लोग मारे गए और 18 अन्य घायल हो गए। उधर, अफगान-तालिबान के प्रवक्ता जबीहउल्ला मुजाहिद ने हमले की जिम्मेदारी लेते हुए कहा कि यह हमला अफगानिस्तान पर आक्रमण करने वाले बलों के खिलाफ है।

नेपाल ने हमले की आलोचना की
अफगानिस्तान में हुए तालिबान आतंकवादी हमले में 14 नेपाली सुरक्षाकर्मियों के मारे जाने से पूरा देश सकते में है। नेपाल सरकार ने हमले की घोर निंदा की है। प्रधानमंत्री ओली ने ट्वीट कर कहा,'मुझे यह सुनकर सदमा लगा है कि अफगानिस्तान में आत्मघाती हमले में 14 नेपाली मारे गए हैं। उनके परिजनों के प्रति मैं संवेदना व्यक्त करता हूं।' नेपाली संसद में मुख्य विपक्षी नेता और नेपाली कांग्रेस के प्रमुख शेर बहादुर देउबा ने भी शोक जताया और कहा कि हमले को लेकर वह भी सकते में हैं।

पीएम मोदी ने जताया दुख
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काबुल में हुए आत्मघाती हमले पर दुख जताया है। मोदी ने ट्वीट कर कहा,'हम काबुल में हुई भयावह त्रासदी की कड़ी निंदा करते हैं। निदार्ेष लोगों की जान जाने पर अफगानिस्तान और नेपाल सरकारों के प्रति हमारी गहरी संवेदनाएं। हम दुख की इस घड़ी में नेपाल को सभी संबद्ध सहायता उपलब्ध कराने के लिए कदम उठा रहे हैं।'
Powered by Blogger.