Header Ads

TMC ने मारा शानदार गोल लेकिन बाईचुंग भूटिया को नहीं मिली 'किक'


सिलिगुड़ी : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने जीत का शानदार गोल तो मार दिया है लेकिन इसके स्टार स्ट्राइकर और भारतीय फुटबाल टीम के पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया राजनीति के मैदान में कोई गोल नहीं कर सके। सिलिगुड़ी सीट से टीएमसी के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे बाईचुंग भूटिया हार गए हैं। ममता की जीत की जबर्दस्त लहर के बीच भी बाईचुंग चुनाव नहीं जीत सके। लेफ्ट के अशोक भट्टाचार्य ने बड़े अंतर से बाईचुंग भूटिया को हराया। 

दरअसल, 2011 में फुटबाल से रिटायर होने के बाद 2014 में उन्होंने टीएमसी ज्वाइन की और दार्जिलिंग लोकसभा सीट से टीएमसी के टिकट पर चुनाव भी लड़ा था, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली थी। 2016 के विधानसभा चुनाव में भूटिया ने एक बार सिलिगुड़ी से अपनी किस्मत आजमाई, लेकिन उन्हे एक बार फिर हार का सामना करना पड़ा है। ममता की लहर में टीएमसी को जबर्दस्त जीत हासिल हुई है, लेकिन भूटिया को हार का सामना करना पड़ा है। भूटिया का जन्म 15 दिसंबर 1976 को सिक्किम में हुआ था। छोटी सी उम्र से ही उन्होंने फुटबाल खेलना शुरू कर दिया था। बाईचुंग ने भारत को अंतरराष्ट्रीय फुटबाल में पहचान दिलाई। फुटबॉल के मैदान में विपक्षी खिलाड़ी उन्हें विज किड, क्राइसिस मैन, वंडर किड और स्कॉरपियन के नाम से जानते थे।

Powered by Blogger.