Header Ads

Rape and murder of Champa Chetry in Assam, two accused arrested

Tinsukia : Gorkhas strongly condemn the rape and murder of 20 year old Champa Chetry/Chettri on 29th of April 2016 of Baragolai, Margherita, Assam.The dead body of Champa was recovered from Dehing river in Margherita. Two accused Biswajit Chhatri and Moinul Ali have been arrested. The entire Gorkha community across the country demand strict punishment for the culprits.

A case has been registered at Margherita Police Station case Number 94/16 U/S 366,376,342/34 IPC against the youths.

Under the aegis of All Assam Gorkha Students’ Union (AAGSU) Tinsukia District Committee, All Assam Gorkha Students’ Union Margherita Regional Committee on Thursday took out a candlelight vigil from Baragolai to Ledo area in protest against the alleged murder of Champa Chetry by youths recently and whose body was found on Wednesday at Dehing River, Lama gaon.

More than 1,000 people took out a peaceful candle rally. Subhash Sharma and Sankar Jaishy, president and secretary of All Assam Gorkha Students’ Union Margherita Regional Committee said that those who are involved should be arrested and strict punishment should be given to them and Rs 5 lakh compensation should be given to the victim’s family members. If the demands are not fulfilled at the earliest then All Assam Gorkha Students’ Union will intensify its agitation in the coming days, said Subhash Sharma and Sankar Jaishy.


Rakesh Furba Sherpa, in desparation, wrote the following Open Letter to PM Narendra Modi.

प्रति,
आदर्णीय नरेंद्र मोदी जी ।
प्रधान मंत्री, भारत सरकार ।

विषय :- न्याय के संदर्भ में ।

महोदय,
बड़ी ही दुख के साथ केहना पड़ रहा हैं कि यह तस्वीर हमारे असम राज्य के तिनसुकीया जिले के अंतर्गत मार्घेरिटा महकुमा बोरगोलाई की निवासी चम्पा छेत्री की हैं । जो मार्घेरिटा शहर में पार्लर का काम सिख रही थी । जिसकी उम्र करीब २० वर्ष की थी । बिते २९/०४/१६ की शाम जब चम्पा बहन पार्लर का काम समाप्त कर घर वापस लौट रही थी तो आज तक वह घर पहुँची ही नही ।
किसीने बताया की चम्पा बहन की लास नदी में तैर रही हैं । अपने परिवार की लाडली हमेशा के लिए अपने परिवार को छोड़कर चली गयी ।
परन्तु, प्रधान मंत्री महोदय जी, यह घटना कोई आम घटना नही, जो कि किसीकी प्यार में एक लड़की ने खुदकुशी कर ली ।

असल में हमारी बहन चम्पा छेत्री, ईन्सान के रुप में भेड़ीयो के हवस का शिकार हुई थी । उसे गिद्ध की तरह नोचा गया था । उसे बलात्कार कर नदी में मरने के लिए फेंक दिया गया । उसकी गलती ही क्या थी........? कि वह एक लड़की हैं ।
अरे उसे तो मालुम भी न था कि आज उसकी जिन्दगी का आखिरी दिन हैं ।
उसे क्या पता था कि आज कुछ पाखण्डी उसकी ईज्जत के साथ खेलने वाले हैं ।

बेड़ी ही दुख की बात हैं प्रधान मंत्री महोदय जी, जो घटना निर्भया के साथ हुई थी, वही घटना आज फिर असम के एक युवती के साथ हुई ।
फर्क सिर्फ ईतना हैं कि दिल्ली में कई सारे न्यूज चेनल उपलब्ध हैं जैसे AajTak, ABP news, NDTV india, Times NOW, । जिनके चलते सरकार तक बाते पहुँच पाती हैं । अगर कुछ घटनाए होती हैं तो वह बड़ी Issue बन जाती हैं । इस तरह से Telecast करते हैं कि प्याज के बड़ते कीमत की वजह से सरकारें बदल जाते हैं । राजनैतीक मुद्दा बनाया जाता हैं ।

लेकिन हमारा क्या ????
हमें आपलोगो तक बातें पहुँचाने के लिए क्या करना पड़ेगा ?

क्योंकि चेनल वालो को असम तथा उत्तरपूर्व की घटनाओ पर दिलचस्पी हैं ही नही और असमीया न्यूज आपलोग समझते नही ।
करे तो क्या करें यह अभागी जनता ?

जब इस घटना को लेकर लोगो में गुस्सा उमड़ रहा था तो लोग सड़क पर आकर आंदोलन करने लगे । अपने मन की भड़ास निकालने के लिए लोग नारेबाजी करने लगे ।अपने बहन/बेटी न्याय के लिए हाय-हाय, मुर्दाबाद का नारा लगाया गया । तो क्या हुआ. ? क्या ईस्से सरकार की कुर्सी चली गयी ?
क्या सरकार डगमगा गयें ?

पुलिस केहती हैं कि **अराजकता** फैल गयी हैं । एकबार पुलिस वाले भी आन्दोलन में उतर जाए तो इनका क्या होगा ???
क्या ईस वक्त ईस तरह की बाते पुलिसवालों द्वारा कहना उचित हैं ?

**अराजकता** कौन फैला रहा हैं? साधारण लोग? जिन्हे दो वक्त की रोटी के लिए कितने मेहनत करने पड़ते हैं ।
क्या **अराजकता** फैलाने के लिए उनके पास समय हैं?

प्रधान मंत्री महोदय जी,
ईन दो साल की कार्यकाल में आप संसार के विभिन्न देशो में घुमकर, उन देशो से नयी-नयी चीजें भारत में ला रहे हैं । कभी MODERN INDIA तो कभी MAKE IN INDIA कभी Infrastructure की बातें करते हैं तो कभी DIGITAL INDIA की बातें करते हैं । कभी *प्रधान मंत्री सड़क योजना* *प्रधान मंत्री बिमा योजना* कभी *अटल पेंसन योजना* ।

ये सभी अच्छी बातें हैं । हम भी ईन सभी योजनाओ का समर्थन करतें हैं ।

परन्तु, आपने कभी उन देशों में बलात्कारीयों पर किस तरह की सजा दी जाती हैं, ईस विषय में जान्ने की कोशिश की ?
कभी आपने विदेशो के कानून व्यवस्था पर ध्यान दिए ?
बाहरी मुल्क पर महिलाओ के सुरक्षा के प्रति किस तरह के नियम हैं ?
यदि महिलाओ/युवतियों पर कोई गन्दी नजर से देखता हैं तो उसपर किस तरह की कार्यवाही की जाती हैं, इस विषय पर क्या आपने अध्यन कियें ?

मुझे लगता हैं २ वर्ष की कार्यकाल में विदेश जाकर महिलाओ के सुरक्षा के प्रति आपने न तो किसी भी प्रकार की अध्ययन कियें और ना ही ईसमें आपको कोई रुचि हैं ।

कास आपकी भी ३/४ बेटियाँ होती !! तो सायद ईस विषय पर आप ध्यान देतें ।
महिलाओ के सुरक्षा के प्रति कड़े से कड़े नियम बनातें ।

अगर ईसी तरह रहा तो देखना कुछ दिन बाद आपके अपने Party के Rallyओ में एक भी महिला समर्थक नही मिलेंगे और तब ये मत कहियेगा कि RAKESH FURBA SHERPA ने आपको सुचित नही किया था ।

आशा करता हुँ हमारी प्यारी सी बहन चम्पा छेत्री के हत्यारों/बलात्कारियो को जल्द कड़ी सी कड़ी सजा मिलें ।

॥ ॐ शान्ति शान्ति ॥
॥ चम्पा बहन अमर रहे ॥


Source sentinelassam/ indiangorkhas.in
Powered by Blogger.