Header Ads

शर्मनाक : भारत के पांच शहर में आज भी भारतीय लोगों की एंट्री पर है पाबंदी


नई दिल्ली। ब्रिटिशकाल में हमारे देश में कुछ ऐसी जगह थी जहां भारतीय लोगों के जाने पर बिल्कुल पाबंदी थी। अगर कोई भारतीय गलती से वहां चला जाता था तो अंग्रेज उन्हें सख्त से सख्त सजा देते है। लेकिन अब हमारा देश आजाद हो गया है। और हर इंसान को पूरा अधिकार है कि वो स्वतंत्र होकर कहीं भी घूम सकता है। अब लोग मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे, रेस्टोरेंट और होटल में बिना किसी हिचकिचाट के स्वतंत्र होकर कहीं भी आ जा सकते हैं। हमारे देश को आजाद हुए कई साल हो गए है लेकिन आज भी हिंदुस्तान के अंदर कुछ ऐसी जगह हैं जहां पर भारतीयों के लिए ‘नो एंट्री’ है। हिन्दुस्तान में यह बात बहुत कम लोग ही जानते है। आज आपको कुछ ऐसे शहरों के बारे में बताएंगे जहां पर आज भी हिन्दुस्तानियों के आने पर पाबंदी है।

उनो-इन-होटल, बेंगलोर
भारत के आईटी शहर कहा जाने वाला बेंगलोर शहर में एक ऐसा होटल है जहां भारतीयों को होटल में घुसने से रोकने की कई शिकायते आईं थी। बता देे कि ये जापानियों का होटल था। जिसे ग्रेटर बंगलोर सिटी कॉर्पोरेशन ने रंगभेद के आरोप में बंद करा दिया।

अंजान होटल, चेन्नई
इस होटल का वाकई कोई नाम नहीं है। इसकी खबर भी स्थानीय अखबार ने दी थी, इस होटल के बारे में कहा जाता है कि इसमें सिर्फ विदेशी पासपोर्ट धारक लोग ही एंट्री कर सकते हैं। कुछ लोग इसकी पहचान ‘हाईलैंड होटल’ के रूप में करते हैं, तो कुछ लोग पूर्व नवाब के घर ‘ब्रोडलैंड लॉज’ के तौर पर इसकी पहचान करते हैं।

‘फॉरेनर्स ओनली’ गोवा
हिन्दुस्तान का सिंगापुर कहे जाने वाले गोवा शहर के कई बीचों पर अब भी हिंदुस्तानियों का जाना मना है। यहां सिर्फ विदेशियों की ही एंट्री है और वो यहां स्वच्छंद होकर घूमते हैं।

‘फॉरेनर्स ओनली’ पुड्डुचेरी
फ्रांसीसी मूल के लोगों की बहुतायत है इस केंद्र शाषित राज्य में। भले ही हम इसे पांडिचेरी से पुड्डुचेरी बोलने लगे हों, पर यहां के ‘फॉरेनर्स ओनली’ बीच पर हिंदुस्तानियों का जाना मना है।

फ्री कसोल कैफे, हिमाचल प्रदेश
वैसे तो यह जगह हिमाचल प्रदेश के कसोल में, जिसे ‘फ्री कसोल’ ही कहा जाता है, लेकिन कोई भी हिंदुस्तानी कानून नहीं चलता। नशे में लोग झूमते मिलते हैं। यहां हिप्पी संस्कृति चलती है। ये जगह हिंदुस्तानियों के लिए पूरी तरह से प्रतिबंधित है।

Powered by Blogger.