Header Ads

भोपाल पहुंचे नेपाली सिनेमा के सुपरस्टार राजेश हमाल बोले इंडिया हमेशा रहा है बिग ब्रदर


वीर गोरखा न्यूज पोर्टल
दीपक राई

नेपाली सिनेमा के सबसे बड़े सुपरस्टार और राजेश दाई के नाम से मशहूर अभिनेता राजेश हमाल राजधानी में नेपाली समाज के एक सांस्कृतिक कार्यक्रम में शिरकत लेने झीलों की नगरी भोपाल पहुंचे। उन्होंने कहा कि भारत और नेपाल के रिश्ते अटूट है। उन्होंने आगे कहा कि नेपाल हमेशा से भारत को  मानता रहा है। यह रिश्ता दो भाईयों के रिश्तें जैसा है। गोरखा जन कल्याण समाज समिति द्वारा आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में नेपाल से आए हुए लोक कलाकार, सिंगर और डांसरों ने दर्शकों का जमकर मनोरंजन किया। समिति के अध्यक्ष आशाराम घले ने जानकारी देते हुए बताया कि भोपाल में कई पीढ़ियों से रह रहे नेपाली समाज के युवा लोगों के लिए राजेश हमाल आज भी एक आइडल है, इसलिए उन्होंने प्रयास किया कि नेपाल के सुपरस्टार राजेश हमाल से राजधानी के नेपाली लोगों रूबरू करवाया जाए। इसलिए उन्होंने नेपाली संस्कृति के बड़े एम्बेसडर राजेश हमाल को शहर में अपने सांस्कृतिक कार्यक्रम में बुलाया।

भोपाल की खूबसूरती पर गदगद हुए नेपाली एक्टर
रविवार के दिन हमाल ने शहर की झीलों को देखने के लिए वक्त निकाला। पहली बार भोपाल आए राजेश हमाल ने शहर की खूबसूरती से अभिभूत होकर भोपाल में रह रहे हज़ारों नेपाली लोगों से अगली बार फिर आकर मिलने का वादा किया। गौरतलब है कि भोपाल में नब्बे के दशक में राजेश हमाल की वीसीडी ब्लैक में अपने दाम से कई गुना अधिक कीमत पर बिका करती थी।

कॉलेज की पढ़ाई चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी से पूरी की
राजेश हमाल ने बातचीत करते हुए बताया कि भारत से उनका पुराना नाता रहा है। उन्होंने स्कूल करने के बाद अपनी कॉलेज की पढ़ाई चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी से पूरी की थी। उसके बाद उन्होंने मुंबई और दिल्ली में बतौर मॉडल रैम्प वॉक भी किया। उसके बाद उन्होंने काठमांडू जाकर नेपाली फिल्मों में काम करना शुरू किया।

पाकिस्तानी फिल्म में भी कर चुके है काम
अस्सी के दशक के आखिर में जब पाकिस्तान में हिन्दी फिल्मों पर बैन लगाया गया तो वहाँ नेपाली फिल्में रिलीज हुआ करती थी। इसलिए 1991 में पाकिस्तान में बनी पंजाबी भाषा की फिल्म कचहरी में राजेश हमाल अभिनय करते नज़र आए।

भोपाल का नेपाली फिल्मों से है पुराना कनेक्शन
नब्बे के सालों में भोपाल में काम करने वाले हज़ारों नेपाली लोगों के लिए भोपाल के सिनेमाघरों में भी फ़िल्में प्रदर्शित होती थी। गूंजबहादूर, रंगमहल, लिली और किशोर टॉकीज में बड़ी नेपाली फिल्मों की हर रविवार को सुबह स्पेशल शो दिखाइ जाते थे। हालांकि इंटरनेट के दौर में यह सिलसिला ख़त्म हो चुका है। नेपाली फिल्मों के म्यूजिक कैसेट और वीसीडी के लिए न्यूमार्केट यहां के नेपाली लोगों के लिए एकमात्र जगह हुआ करती थी। 









Powered by Blogger.