Header Ads

पूर्व मेजर जनरल के बेटे समीर ने बदल लिया था धर्म, जुटा रहा था बम धमाकों की जानकारी

पणजी : इंटेलिजेंस इनपुट के आधार पर सोमवार को गोवा के वास्को से गिरफ्तार समीर सरदाना भारतीय सेना के पूर्व मेजर जनरल का बेटा निकला. आतंकी संगठनों से जुड़े होने के शक के आधार पर गोवा एटीएस की गिरफ्त में आया 44 साल का सरदाना पहेलीनुमा शख्सियत है. नामचीन दून स्कूल का पूर्व छात्र सरदाना पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट है. एटीएस को उसके पास से कुछ नक्शे, एक लैपटॉप, मोबाइल फोन और पांच पासपोर्ट बरामद हुए हैं. लैपटॉप और मोबाइल रिकॉर्ड को खंगालने के साथ ही पुलिस उससे पूछताछ कर रही है. एटीएस के मुताबिक सरदाना के पास से कुछ ऐसे पत्र और ई-मेल मिले हैं जिसकी अभी जांच पड़ताल हो रही है.

समीर ने करवाया था धर्मांतरण
शुरुआती तौर पर देखने से पता चलता है कि उसने देश में अबतक हुए कई बम विस्फोटों की जानकारी जुटाई हुई थी. पुलिस ने बताया कि हिंदू धर्म पैदा हुआ समीर सरदाना फिलहाल इस्लाम को मानता है. कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों के साथ काम के सिलसिले में सरदाना हांगकांग, मलेशिया, सऊदी अरब जैसे देशों में जा चुका है. गिरफ्तारी के बाद से ही उसे रिमांड पर लिया हुआ है.

अलग-अलग जगहों पर ले जाकर पूछताछ
टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, गोवा के डीजीपी टीएन मोहन ने कहा कि जांच और पूछताछ में अभी तक कुछ खास नहीं मिला है. सरदाना के रिश्ते आतंकी संगठनों से हैं या नहीं इसकी जांच चल रही है. उसे शक के आधार पर पकड़ा गया. कोर्ट से सरदाना को रिमांड पर लेने के बाद इंटेलिजेंस अफसरों और एटीएस की तरफ से मुंबई, देहरादून, पणजी और वास्को में लगातार जांच चल रही है. अलग-अलग जगहों पर ले जाकर उससे पूछताछ की जा रही है.

पिता बोले, एटीएस को हुई गलतफहमी
समीर के पिता और कई मेडल से सम्मानित पूर्व मेजर जनरल केएन सरदाना ने इस बारे में कहा कि एटीएस को भारी गलतफहमी हुई है. मेरे बेटे समीर को गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया है. वह किसी तरह की गैरकानूनी हरकतों में कभी शामिल नहीं रहा है. पूछताछ के बाद उसे जल्द ही छोड़ दिया जाएगा.

Powered by Blogger.