Header Ads

बाजारों में अब नहीं बिकेगी सेना की वर्दी, पहनने पर भी होगी कार्रवाई, सेना ने जारी की गाइडलाइंस


चंडीगढ़। सेना ने आम लोगों से 'सैनिकों जैसी वर्दी' न पहनने को कहा है। सेना ने शुक्रवार को दुकानदारों से भी अपील की कि वह सेना की वर्दी जैसे दिखने वाली ड्रेसेज को न बेचें। सेना ने यह दिशानिर्देश किसी भी तरह के आतंकी हमले को रोकने के लिए दिया है। पठानकोट एयरबेस पर हमला करने वाले आतंकी भी सेना जैसी वर्दी पहनकर ही आए थे। सेना की ओर से जारी की गई गाइडलाइंस पूरे देश में लागू होंगी। सेना की ओर से यह निर्देश पठानकोट हमले के करीब एक हफ्ते बाद आया है। सेना के आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि नागरिकों से सेना जैसी वर्दी न पहनने का आग्रह किया गया है। सेना के अधिकारी ने कहा कि आम नागरिकों के अलावा निजी सुरक्षा एजेंसियों में तैनात लोगों, पुलिस और अन्य केंद्रीय बलों के लोगों को भी सेना जैसी वर्दी न पहनने की अनुमति है। अधिकारी ने कहा कि सेना की वर्दी सिर्फ सैन्यकर्मियों को ही पहनने की अनुमति है।

सेना के आधिकारिक बयान में कहा गया, 'सभी व्यापारी और दुकानदार जो सेना की वर्दी को बेचना चाहते हैं, वह निकट की सैन्य रेजिमेंट से संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आर्मी कैंट में दुकानों के लिए आवेदन किया जा सकता है।' सेना ने कहा है, 'किसी भी अनाधिकृत व्यक्ति को सेना की वर्दी बेचना अवैध है।' सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया कि यह दिशानिर्देश जनहित में और आतंकी हमलों की रोकथाम के लिए जारी किए गए हैं। यही नहीं सैन्य कर्मियों के परिजनों और पूर्व सैनिकों से भी आग्रह किया गया है कि वह सैन्य वर्दी न पहनें। इससे गलतफहमी पैदा हो सकती है। इसके अलावा पुलिस और नागरिक प्रशासन से भी ऐसे लोगों पर नजर रखने को कहा गया है, जो अवैध तरीके से सेना की वर्दी पहनते हैं। सेना के प्रवक्ता ने कहा, 'सैन्य वर्दी न पहनने के लिए युवाओं को सोशल मीडिया के जरिए जागरूक किया जाएगा। सेना की वर्दी का फैशन के लिए दुरुपयोग न हो, यह हम सुनिश्चित करेंगे।'
Powered by Blogger.