Header Ads

पहाड़ खिसकने से देश से कटा सिक्किम का सीधा संपर्क, आवागमन पूरी तरह से ठप


गंगटोक : 'सिक्किम की जीवन रेखा' कहे जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग-10 पर पहाड़ खिसकने की घटना के बाद सिक्किम का देश से सीधा संपर्क कट गया है। गुरुवार की सुबह सिक्किम का प्रवेश द्वार रंगपो के समीप भोटेभीर में हुई उक्त घटना के बाद राजमार्ग पर बड़ी मात्रा में बोल्डर जमा हो गए। जिसके नीचे पांच वाहन दबे हुए हैं। इससे आवागमन पूरी तरह से ठप हो गया है। सिक्किम से सिलीगुड़ी एवं सिलीगुड़ी से सिक्किम जाने वाले वाहनों को कालिम्पोंग, मनसोंग के रास्ते गंतव्य तक जाना पड़ रहा है। जिससे यात्रियों को आर्थिक एवं समय की हानि उठानी पड़ रही है। सीधे गंगटोक पहुंचने में जहां चार से साढ़े चार घंटे का समय लगता था, वहीं अब मनसोंग के रास्ते छह से सात घंटे का समय लग रहा है। 

राजमार्ग पर यातायात सुचारू बनाए रखने की जिम्मेदारी का निर्वाहन करने वाले ग्रेफ के अधिकारियों की मानें तो शुक्रवार की देर शाम तक मलबा हटा लिए जाने की उम्मीद है। ग्रेफ के कमांडर सुरेश गुप्त ने कहा कि हमारी एक बड़ी मशीन थ्री हंड्रेड एस्काबेटर बोल्डरों से दबी हुई है। जिसके कारण मलबा हटाने के कार्य में दिक्कतें आ रही हैं। उन्होंने कहा कि पांच मशीनों के द्वारा मलबा हटाने की कोशिश की जा रही है। गुप्त ने लगभग 40 फीसदी मलबा हटा लिए जाने की जानकारी दी व कहा कि ग्रेफ के लोग बोल्डर हटाने के कार्य में युद्ध स्तर पर जुटे हुए हैं।







Powered by Blogger.