Header Ads

AUSTRALIAN OPEN : सानिया-हिंगिस ने जीता साल का पहला ग्रैंड स्लैम खिताब


मेलबर्न : ऑस्ट्रेलियन ओपन के महिला डबल्स में भारतीय टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा और उनकी जोड़ीदार स्विट्जरलैंड की मार्टिना हिंगिस की जोड़ी ने खिताबी जीत दर्ज की है। इस जोड़ी ने चेक रिपब्लिक एनड्रिया लावाकोवा और लूसी राडिका की जोड़ी को कड़े मुकाबले में हराया। सानिया-हिंगिस ने यह मुकाबला 7-6 (7-1), 6-3  से जीता। पहला सेट टाई ब्रेकर तक गया। सानिया-हिंगिस की जोड़ी पहले सेट में पिछड़ी लेकिन इसके बाद दोनों ने शानदार वापसी की। एक बार ये जोड़ी रंग में आई इसके लावाकोवा-राडिका की जोड़ी को कोई मौका नहीं मिला। सानिया और हिंगिस इससे पहले भी ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके हैं। लेकिन यह दोनों का साथ पहला ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब है। सानिया ने इससे पहले मिक्स्ड डबल्स में ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीता था। सानिया को कुछ ही देर में मिक्स्ड डबल्स का फाइनल मुकाबला भी खेलना है।

इस जीत से जुड़ी 10 खास बात जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे :-

1- इस जोड़ी ने साल के पहले ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम कर लिया जो इस नंबर-वन जोड़ी का लगातार तीसरा ग्रैंड स्लैम है। इस जोड़ी ने साल 2015 में विंबलडन और यूएस ओपन का खिताब जीता था। इस तरह से यह ग्रैंड स्लैम में उनकी हैट्रिक है।

2- महिला डबल्स फाइनल के खिताबी मुकाबले में सानिया और हिंगिस की टॉप सीडड जोड़ी ने चेक गणराज्य की आंद्रिया लावाकोवा और लूसी राडिका की सातवीं वरीय जोड़ी को 1 घंटे 9 मिनट तक चले मुकाबले में 7-6, 6-3 से पराजित हराया।

3- साल 2015 में एक साथ 10 खिताब जीत चुकीं सानिया-हिंगिस ने इस साल भी लगातार दो खिताब जीतकर मेलबर्न में जगह बनाई थी और इसी लय को बरकरार रखते हुए आसानी से ग्रैंड स्लैम भी अपने नाम किया। इसी के साथ इस जोड़ी ने लगातार 36 मैच जीतने की भी उपलब्धि हासिल कर ली है।

4-  मैच में दुनिका की नंबर एक महिला डबल्स खिलाड़ी सानिया और हिंगिस ने कुल 87 प्वॉइंट जीते और 34 विनर्स लगाए। उन्होंने कुल 28 बेजा भूलें और पांच डबल फॉल्ट भी किए।

5- सानिया-हिंगिस की जोड़ी फाइनल में पहले सेट में पिछड़ रही थी। पहले सेट में विपक्षी टीम ने कड़ा संघर्ष किया और भारतीय-स्विस जोड़ी को 17 बेजा भूलें करने के लिए मजबूर कर दिया। लेकिन सानिया-हिंगिस ने नौ में से चार ब्रेक प्वॉइंट को भुनाते हुए पहला सेट 62 मिनट के संघर्ष के बाद जीता।

6- दूसरा सेट सानिया-हिंगिस के लिए ज्यादा मुश्किल नहीं रहा और इसमें उन्होंने कहीं बेहतर खेल दिखाते हुए आठ में से चार मौकों को भुनाया और 6-3 से सेट और मैच अपने नाम कर लिया।

7- दुनिया की नंबर एक इस जोड़ी का यह एक साथ 12वां खिताब है और एक साथ तीसरा ग्रैंड स्लैम महिला डबल्स खिताब है। 35 वर्षीय हिंगिस के लिए यह 12वां डबल्स खिताब है। इससे पहले वह पांच बार साल 1997, 1998, 1999 और 2002 में ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुकी हैं। उन्होंने वर्ष 1998 और 2000 में दो बार फ्रेंच ओपन, साल 1996, 1998, 2015 में विंबलडन और साल 1998 और 2015 में यूएस ओपन खिताब जीता है।

8- सानिया मिर्जा को इस साल पद्म भूषण के लिए चुना गया है। इससे पहले पिछले साल उन्हें राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

9- सानिया इससे पहले 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन का मिक्स्ड डबल्स का खिताब जीत चुकी हैं। तब उन्होंने महेश भूपति के साथ यह खिताब जीता था। इसके अलावा 2014 में वो मिक्स्ड डबल्स में ही रनर-अप रही थीं। उस समय उनके जोड़ीदार होरिया टेकाउ थे।

10- सानिया मिर्जा का यह मिक्स्ड डबल्स, महिला डबल्स और गर्ल्स डबल्स मिलाकर 7वां ग्रैंड स्लैम खिताब है। सानिया महिला डबल्स में मार्टिना हिंगिस के साथ विंबलडन, यूएस ओपन और ऑस्ट्रेलियन ओपन जीतने के अलावा मिक्स्ड डबल्स में ऑस्ट्रेलियन ओपन, फ्रेंच ओपन और यूएस ओपन खिताब अपने नाम कर चुकी हैं। 2003 में सानिया ने विंबलडन में गर्ल्स डबल्स का खिताब जीता था।






Powered by Blogger.