Header Ads

फर्जी भारतीय निवास प्रमाण पत्र लेकर सेना में भर्ती होने आए 11 नेपाली नागरिक धराए

देहरादून। सेना पुलिस ने फर्जी भारतीय निवास प्रमाण पत्रों के आधार पर सेना भर्ती में शामिल होने पहुंचे 11 नेपाली मूल के युवकों को बुधवार को हिरासत में ले लिया। इनके पास लखनऊ के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों के प्रमाण-पत्र मिले। सभी प्रमाण-पत्रों को जांच के लिए सेना ने कब्जे में ले लिया है। पूछताछ में सामने आया कि इन युवकों ने लखनऊ के एक दलाल के जरिये शैक्षिक, जाति व मूल निवास प्रमाण-पत्र हासिल किए। उक्त युवकों का ताल्लुक माओवादी संगठनों से होने की आशंका पर सैन्य इंटेलीजेंस, आइबी और स्थानीय अभिसूचना इकाई के अधिकारियों ने इनसे करीब तीन घंटे तक पूछताछ की। हालांकि अब तक इनके किसी संगठन से जुड़े होने की बात सामने नहीं आई है।

यहां कैंट के महिद्रा मैदान में भारतीय मूल के गोरखाओं की सैन्य भर्ती प्रक्रिया चल रही थी। इसमें उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के गोरखा समुदाय के युवा भाग ले रहे थे। सुबह करीब 11 बजे सैन्य अधिकारियों की नजर भर्ती में शामिल होने आए एक संदिग्ध युवक पर पड़ी। पूछताछ की गई तो वह सकपका गया। अधिकारियों ने उसके प्रमाण-पत्रों को जांच करने के साथ ही कुछ सवाल किए तो वह उत्तर नहीं दे पाया। पूछताछ में पता चला कि युवक नेपाल का रहने वाला है और उसने लखनऊ से शैक्षिक, जाति और मूल निवास प्रमाण-पत्र बनवाए हैं। युवक ने बताया कि उसके साथ कई और युवा भी आए हुए हैं। दोपहर करीब तीन बजे तक ऐसे 11 युवाओं को हिरासत में ले लिया गया। बताया जा रहा है कि सभी युवकों ने लखनऊ के बाबूराम शर्मा को 25 से 50 हजार रुपये देकर प्रमाण-पत्र बनवाने की बात स्वीकार की है। बाद में इन युवकों को पुलिस के हवाले कर दिया गया।

Powered by Blogger.