Header Ads

हरदा ट्रेन हादसे में 24 लोगों की मौत, राहत कार्य लगभग पूरा, 100 से अधि‍क घायल

भोपाल। मध्य प्रदेश के हरदा के पास एक ही जगह पर एक के बाद एक दो ट्रेनों के साथ बड़ा हादसा हुआ है. हरदा से खिड़किया स्टेशन के बीच हुए हादसे में कामायनी और जनता एक्सप्रेस की 16 बोगियां पुलिया धंसने से पटरी से उतर गई हैं. हादसे में अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 100 से अधि‍क घायल हुए हैं. 200 से अधि‍क लोगों को सुरक्षित निकाला गया है. राहत कार्य लगभग पूरा हो चुका है. रेलवे सुरक्षा के कमिश्नर ने घटना के जांच के आदेश दिए हैं. मुआवजे की भी घोषणा की गई है. हरदा के डीएम रजनीश श्रीवास्तव ने 24 लोगों की मौत की पुष्टि‍ करते हुए कहा कि घायल लोगों में कोई भी गंभीर रूप से घायल नहीं हुआ है. घायलों का उपचार किया जा रहा है. रेलवे ने हादसे को लेकर हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. हरदा के लिए यह नंबर 97524-46008, वाराणसी के लिए 5422-503814 और मुंबई के लिए 0222-5280005 है.

रात 01:30 बजे हुआ हादसा
जानकारी के मुताबिक, हादसा बुधवार देर रात 1:30 बजे काली माचक नदी से पहले बनी एक छोटी पुलिया की है. ट्रेन संख्या 11071 (मुम्बई-वाराणसी) कामायनी एक्सप्रेस के 11 डिब्बे पुलिया धंसने कारण पटरी से उतर गए, जबकि इसके ठीक बाद 13201 जनता एक्सप्रेस (राजेंद्रनगर-कुर्ला) ठीस उसी जगह हादसे का शि‍कार हुई. बताया जाता है कि कामायनी एक्सप्रेस की S1 से S11, जबकि जनता एक्सप्रेस की S2 से S6 बोगियां पटरी से उतर गई हैं. यह पुलिया हरदा से लगभग 32 किलोमीटर दूर काली माचक नदी के पास है. भारी बारिश के राहत दल को बचाव कार्य में परेशानी हो रही है. हादसे के कारण मुंबई आने-जाने वाली सभी ट्रेन 8-10 घंटे विलंब से चल रही हैं.

50 लोगों की रेस्क्यू टीम मौके पर
घटना स्थल पर 50 लोगों की राहत टीम पहुंच चुकी है. रेल मंत्री सुरेश प्रभु खुद इस घटना की निगरानी कर रहे हैं. घटनास्थल पर बचाव कार्य में लगे कांस्टेबल अनूप कुमार ने बताया कि उन्होंने घटनास्थल से 11 लाशें निकाली हैं. कुमार ने बताया कि पेड़ से लटकी हुई एक औरत और उसके बच्चे को गांव वालों ने बचाया. रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने बताया कि घटनास्थल पर बचाव का काम तेजी चल रहा है. सक्सेना ने बताया कि पुल के ऊपर नदी का पानी आ गया था. उन्होंने बताया कि रेलवे ट्रेक पानी में लगभग बह चुका है. सक्सेना ने कहा, 'रेल मंत्री को घटना की जानकारी दे दी गई है. वो खुद बचाव कार्य के लिए लगातार निर्देश दे रहे हैं.' 

सक्सेना ने कहा कि दुर्घटना की वजह जांच के बाद ही पता चल सकेगी. रेल मंत्री सुरेश प्रभु खुद इस घटना की पल-पल की जानकारी ले रहे हैं. रेल मंत्री लगातार ट्वीट्स कर घटना की जानकारी देते रहे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्वीट कर घटना पर दुख जताया है. उन्होंने लिखा है कि राहत और बचाव के लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं और निगरानी की जा रही है. रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कई ट्वीट कर घटना और उसके बाद चलाए जा रहे राहत कार्य के बारे में जानकारी दी है.

Powered by Blogger.