Header Ads

झारखंड: देवघर मंदिर में भगदड़ से 11 कांवड़ियों की मौत, 50 से अधिक घायल

रांची : झारखंड के देवघर शिव मंदिर परिसर में भगदड़ से 11 कावंड़ियों की मौत हो गई है जबकि 50 से अधिक लोग घायल हैं। हादसा सोमवार सुबह 5.45 बजे बेलाबगान मंदिर के पास हुआ। सावन के दूसरे सोमवार पर मंदिर में चढ़ चढ़ाने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ जुटनी शुरू हुई थी कि वहां भगदड़ मच गई। देवघर एसपी ने 10 लोगों की मौत की पुष्टि की है। महीने की शुरुआत में भी इसी मंदिर परिसर में भगदड़ हुई थी जिसमें 12 लोग घायल हुए थे। बताया जा रहा है देवघर मंदिर में जल चढ़ाने के लिए सोमवार सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ लगी थी। इसी दौरान दस किलोमीटर पहले ही श्रद्धालुओं की लाइन लगनी शुरू हो गई थी। कुछ श्रद्धालुओं का पैर रस्सी में फंस गए और उसके बाद पीछे से सब एक दूसरे पर गिर गए। आज सुबह जल चढ़ाने के लिए करीब डेढ़ लाख श्रद्धालु पहुंचे थे। देवघर के डिप्टी कमिश्नर अमित कुमार ने बताया कि कावड़िए जलाभिषेक के लिए लाइन में लगे हुए थे। लाइन करीब 10 किलोमीटर लंबी थी। श्रद्धालुओं के बीच आगे जाने की होड़ लगी थी। इसी दौरान सुबह करीब पौने पांच बजे मंदिर से करीब 3 किलो मीटर दूर भगदड़ मच गई।

सांसद ने अपनी ही सरकार पर लगाए आरोप
देवघर से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड और केंद्र में अपनी ही पार्टी को मंदिर में अव्यवस्था के लिए जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने एक टीवी चैनल से बातचीत करते हुए कहा, ''मैंने कई बार कहा कि मंदिर में श्रद्धालुओं की सुरक्षा व्यवस्था के लिए मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराई जाएं लेकिन इसके लिए फंड नहीं दिए जा रहे हैं। राज्य और केंद्र सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए।''

पहले भी हो चुका है हादसा
झारखंड में स्थित देवघर मंदिर बैजनाथ धाम ने नाम से भी जाना जाता है। यहां स्थित शिव मंदिर में हर रोज भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है। सावन सोमवार में भक्तों की संख्या लाखों में पहुंच जाती है। 2012 में भी यहां भगदड़ मची थी। जिसमें 9 लोगों की मौत हुई थी। वहीं 30 लोग घायल हो गए थे। उस समय भी हादसा सुबह 5.30 के करीब हुआ था।

12 ज्योतिर्लिगों में से एक है देवघर
देवघर का शिव मंदिर बारह ज्योतिर्लिगों में से एक है। यहां सावन में शिव भक्त गंगाजल चढ़ाने का आते हैं। बैद्यनाथ ज्‍योतिर्लिंग स्थित होने के कारण इस स्‍थान को देवघर नाम मिला है। यह ज्‍योतिर्लिंग एक सिद्धपीठ है। इस कारण इस लिंग को 'कामना लिंग' भी कहा जाता हैं।
Powered by Blogger.