Header Ads

मिशनरीज ऑफ चैरिटी की गोरखा मूल की प्रमुख सिस्टर निर्मला का निधन

कोलकाता : मदर टेरेसा के बाद मिशनरीज ऑफ चैरिटी की प्रमुख की जिम्मेदारी संभालने वाली गोरखा मूल की सिस्टर निर्मला जोशी का मंगलवार सुबह निधन हो गया। वह 81 साल की थीं। मिशनरीज ऑफ चैरिटी के एक अधिकारी ने बताया कि सिस्टर निर्मला पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ थीं और उनकी सेहत लगातार गिरती जा रही थी। 
उनका पार्थिव शरीर बुधवार सुबह मदर हाउस लाया जाएगा और शाम चार बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। अधिकारी ने कहा, 'जो भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करना चाहता है, वे कल मदर हाउस पहुंच सकते हैं।' मदर टेरेसा के निधन के छह महीने पहले 13 मार्च, 1997 को सिस्टर निर्मला को मिशनरीज ऑफ चैरिटी का सुपीरियर जनरल चुना गया था। कोलकाता में अप्रैल, 2009 में हुई जनरल चैप्टर की बैठक में सिस्टर निर्मला के बाद सिस्टर मैरी प्रेमा को सुपीरियर जनरल बनाने का फैसला हुआ था। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सिस्टर निर्मला के निधन पर शोक प्रकट किया है। ममता ने एक बयान में कहा, 'मदर टेरेसा के बाद मिशनरीज ऑफ चैरिटी का नेतृत्व करने वाली सिस्टर निर्मला के निधन से दुखी हूं। कोलकाता और विश्व उनकी कमी महसूस करेगा।'

Powered by Blogger.