Header Ads

नेपाल में फिर भूकंप, राहत कार्य में लगा अमेरिकी सेना का हेलीकॉप्टर लापता

काठमांडू : नेपाल में कल आए विनाशकारी भूकंप के बाद आज तड़के फिर भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भारतीय मौसम विभाग ने एक बयान में बताया कि तड़के दो बजकर 55 मिनट पर आए भूकंप की तीव्रता 5.1 मापी गई। इसका केंद्र उत्तरी अक्षांश में 27.7 डिग्री और 84.06 पूर्वी देशांतर पर सतह से 10 किलोमीटर नीचे था। भूकंप में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। इससे पहले कल नेपाल और भारत के अधिकतर राज्यों में आए 7.3 तीव्रता वाले भूकंप के तीन झटकों में 59 लोगों की मौत हो गई थी और हजारों लोग घायल हो गए थे। इसके अलावा दोनों देशों के लोगों को भारी संपत्ति का नुकसान हुआ था। वहीं, नेपाल में भूकंप पीड़ितों के लिए खाद्य सामग्री ले जा रहा अमेरिकी सेना का एक हेलीकॉप्टर आज लापता हो गया। हेलीकॉप्टर में छह विदेशी सैनिक और दो नेपाली सैनिक सवार थे।

अमेरिकी सेना के एक कर्नल स्टीव वॉरेन ने कहा कि हेलीकॉप्टर के लापता होने से पहले अमेरिकी सेना के चालक दल द्वारा ईंधन की समस्या पर बात करते हुए सुना गया था, जिसके बाद अमेरिकी सेना के अधिकारियों का हेलीकॉप्टर से संपर्क टूट गया। उन्होंने कहा कि तीन सैन्यकर्मियों ने वी-22 रोटर विमान की मदद से 90 मिनट तक हेलीकॉप्टर की खोज की, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया, जिसके बाद खोज का काम रोक दिया गया। नेपाली सैनिकों द्वारा जमीन पर हेलीकॉप्टर के मलबे की खोज जारी है। हेलीकॉप्टर पिछले महीने आए 7.8 तीव्रता वाले भूकंप के बाद राहत अभियान में भाग ले रहा था। वॉरेन ने कहा कि हो सकता है कि समुद्री ब्रिगेडियर जनरल पॉल कैनेडी, तृतीय जो कि समुद्री अभियान सेना के उप कमांडर है, उन्होंने क्षेत्र में हेलीकॉप्टर उतरवाया हो। सेना के मेजर डेव एस्टबर्न ने कहा कि हेलीकॉप्‍टर अमेरिका और नेपाली सुरक्षा बलों के साथ राहत सामग्री लेकर जा रहा था, तभी चारिकोट के पास लापता हो गया।
Powered by Blogger.