Header Ads

रजनीकांत के गुरु प्रसिद्ध फिल्म निर्माता-निर्देशक कैलाशम बालचंदर का निधन

चेन्नई। एक दूजे के लिए’, ‘आइना’ समेत कई सफल दक्षिण भारतीय फिल्में देने वाले प्रसिद्ध फिल्म निर्माता-निर्देशक कैलाशम बालचंदर का 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित बालचंदर के निधन की खबर से पूरा फिल्म जगत सदमे में है। साउथ के सबसे बड़े सुपरस्टार रजनीकांत की फिल्मों में एंट्री बालाचंदर ने ही अपनी फिल्म ‘अबूर्वा रागंगल’ से कराई थी। 9 जुलाई, 1930 को तिरुवरुर (तमिलनाडु) में पैदा हुए बालचंदर ने वर्ष 1965 में फिल्म निर्माण के क्षेत्र में कदम रखा था। उन्हें 3 दिसंबर को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 

वह यूरिनरी इंफेक्शन से जूझ रहे थे। वयोवृद्ध फिल्म निर्माता के मैनेजर ने बताया कि दो तीन दिनों से उनकी सेहत में सुधार देखा जा रहा था, लेकिन मंगलवार देर शाम तकरीबन पौने सात बजे उन्हें दिल का दौरा पड़ा। 7.02 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। बालचंदर ने 150 से अधिक फिल्मों का निर्माण किया था। प्रसिद्ध अभिनेता कमल हासन, रजनीकांत, श्रीदेवी सरिता, प्रकाश राज जैसे कलाकारों को फिल्म इंडस्ट्रीज में स्थापित करने का श्रेय उन्हीं को जाता है। फिल्मों में आने से पहले बालचंदर एक शिक्षक थे। वह महालेखाकार के कार्यालय में अधीक्षक भी रहे। बालचंदर ने तमिल के अलावा तेलुगू, कन्नड़ और हिंदी भाषा में भी फिल्में बनाईं। बालचंदर की बेटी पुष्पा कंडासामी ने बताया कि उनके पिता ने फिल्मों के जरिये अनेक लोगों के दिलों को छुआ। उनका अंतिम संस्कार 25 दिसंबर को किया जाएगा। फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा, अभिनेता माधवन, निर्देशक अनंत महादेवन, निर्देशक मधुर भंडारकर समेत अन्य जानी-मानी हस्तियों ने उन्हें श्रद्धांजलि दी।

Powered by Blogger.