Header Ads

नेपाल में बोले राजनाथ - भारत ने कभी नहीं अपनाई विस्तारवादी नीति

कमल प्रसाद घिमिरे
काठमांडो :
गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज नेपाल को भरोसा देते हुए कहा कि भारत ने कभी भी विस्तारवादी नीति नहीं अपनायी है और जोर देकर कहा कि दोनों देशों की सुरक्षा आंतरिक रूप से जुडी हुई है और सीमा से आतंकवादी गतिविधियां रोकने के लिए और केंद्रित प्रयास की जरूरत है। सिंह ने यह बात तब कही जब उन्होंने यहां नेपाल के प्रधानमंत्री सुशील कोइराला से मुलाकात की और द्विपक्षीय मुद्दों और आपसी सहयोग के क्षेत्रों पर चर्चा की। उन्होंने कहा, इतिहास से स्पष्ट है कि भारत ने कभी भी विस्तारवादी नीति नहीं अपनायी। सिंह कल आयोजित छठे सार्क गृह मंत्रियों के सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए आये हैं। उन्होंने कहा कि भारत में नेपाल की काफी साख है और दोनों देश इस देश में शांति, स्थिरता और समृद्धि हासिल करने के लिए काम करेंगे।
      
उन्होंने जोर देकर कहा कि नेपाल और भारत की सुरक्षा आंतरिक रूप से जुडी हुई है। उन्होंने कहा, भारत-नेपाल सीमा से आपराधिक तत्वों, आतंकवादी और नक्सली समूहों की गतिविधियों को नियंत्रित करने के लिए और केंद्रित प्रयास करने की जरूरत है।  उन्होंने जाली मुद्रा और मानव तस्करी पर भी चिंता जतायी और कहा कि इन मुद्दों से निपटने के लिए एक द्विपक्षीय प्रणाली बनाने की जरूरत है। उन्होंने नेपाली पुलिस और सशस्त्र पुलिस बल को मजबूती प्रदान करने के लिए नेपाल सरकार को पूरा सहयोग देने का वादा किया। उन्होंने यद्यपि सीमा क्षेत्रों के धार्मिक कट्टरता वृद्धि पर चिंता जतायी।  कोइराला के विदेश मामलों के सलाहकार दिनेश भट्टाराई ने बैठक के बाद कहा, बैठक के दौरान दोनों नेताओं ने इस विचार को साझा किया कि नेपाल और भारत के संबंध नैसर्गिक, विविध और स्वाभाविक हैं।
Powered by Blogger.