Header Ads

तृणमूल सरकार के मंत्री गौतम देव ने सिलीगुड़ी में युवक को पीटा

सिलीगुड़ी :  तृणमूल कांग्रेस नेता और उत्तर बंगाल विकास मंत्री गौतम देव पर एक युवक के साथ मारपीट करने का आरोप लगा है. आरोप है कि रामघाट इलाके में मंत्री ने बातचीत के लिए कुछ युवकों को बुलाया और किसी बात पर तकरार होने के बाद एक युवक की पिटाई शुरू कर दी. यह घटना रविवार सुबह सिलीगुड़ी थाना अंतर्गत नतूनपाड़ा इलाके के रामघाट में घटी. जानकारी के अनुसार, गौतम देव रविवार को दलबल के साथ रामघाट इलाके में विद्युत शवदाह गृह बनाने के लिए शिलान्यास करने गये थे. इस दौरान स्थानीय लोगों ने यहां विद्युत शवदाह गृह बनाने का विरोध किया. लोगों का कहना था कि रामघाट में पहले से ही एक श्मशान घाट है, यह श्मशान घाट घनी आबादी में बना हुआ है. 

ऐसे में विद्युत शवदाह गृह बनने के बाद यहां के लोगों को शवों से निकलने वाली राख और धुंए के कारण परेशानी होगी. आरोप है कि इस मुद्दे पर बातचीत करने के लिए मंत्री ने कुछ युवकों को बुलाया. इसी दौरान उन्होंने एक युवक महादन मंडल के साथ मारपीट शुरू कर दी. ऐसा होते ही स्थानीय लोग भड़क गये और मंत्री का घेराव कर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया. मंत्री द्वारा एक युवक की पिटायी किये जाने की घटना की खबर इलाके में फैलते ही बड़ी संख्या में स्थानीय लोग मौके पर उपस्थित हो गये. कई महिलाएं अपने साथ झाड़ू लेकर आयी हुई थीं. महिलाओं तथा स्थानीय लोगों ने मंत्री के काफिले को घेर लिया. स्थिति की नजाकत को देखते हुए तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी गयी. 

पुलिस कमिश्नर जगमोहन तथा एडीसीपी भोलानाथ पांडे पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे. स्थानीय लोगों की पुलिस के साथ भी धक्का-मुक्की और कहा-सुनी हुई. स्थिति बिगड़ते देख रैफ के जवानों को भी मौके पर बुला लिया गया. पुलिस प्रशासन ने स्थानीय लोगों को समझाने की काफी कोशिश की, लेकिन वे लोग नहीं माने. बाद में किसी तरह से पुलिस मंत्री गौतम देव को वहां से सही सलामत निकालने में कामयाब हुई. इस घटना के बाद से ही पूरे इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल और रैफ के जवानों की तैनाती कर दी गई है. इस बीच, कांग्रेस नेता शंकर मालाकार ने मंत्री गौतम देव की गिरफ्तारी की मांग की है. इस घटना के तुरंत बाद सिलीगुड़ी में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मालाकार ने कहा कि एक मंत्री का इस प्रकार का आचरण अशोभनीय है. उन्होंने कहा कि पुलिस को इस मामले में मंत्री गौतम देव को गिरफ्तार करना चाहिए. ऐसा नहीं होने की स्थिति में सोमवार को उन्होंने सिलीगुड़ी थाना घेराव करने की धमकी दी है.

मंत्री गौतम देव व तृणमूल जिला सचिव के खिलाफ प्राथमिकी
सिलीगुड़ी के दो निवासियों ने मंत्री गौतम देव और उनके सहयोगी के विरुद्ध यह आरोप लगाते हुए रविवार को प्राथमिकी दर्ज करवायी कि जब वह शहर में विद्युत शव दाहगृह को बनाने को लेकर विरोध कर रहे थे तो दोनों ने उन्हें धक्का दिया. देव और तृणमूल कांग्रेस की दार्जिलिंग इकाई के सचिव कृष्ण चंद्र पाल के विरुद्ध दोनों शिकायकर्ताओं ने प्राथमिकी दर्ज करायी. जिसमें आरोप लगाया गया है कि उन्हें उस समय कथित रूप से धक्का दिया गया जब वे शहर के वार्ड संख्या 5 में विद्युत शव दाहगृह के निर्माण का विरोध करने के लिए मंत्री से मिले थे. दोनों शिकायतकर्ताओं गौरी मित्र एवं नंदलाल मंडल ने दावा किया कि मंत्री ने उन्हें मंच पर बुलाया और शिकायत के बारे में विचार विमर्श करने के लिए कहा था. लेकिन जब वे मंच पर पहुंचे तो उन्हें आरोपियों द्वारा धमकाया गया और धक्का दिया गया तथा अपशब्द कहे गये.

पहले भी कर चुके हैं मारपीट
मंत्री गौतम देव पर इससे पहले भी मारपीट करने का आरोप लग चुका है. कुछ महीने पहले उन्होंने होमियोपैथिक डॉक्टर डॉ पीजी मित्र के साथ मारपीट की थी. आरोप है कि तब पीजी मित्र अपना अखबार तृणमूल की जनसभा में वितरित कर रहे थे. इस मुद्दे को लेकर उन्होंने सिलीगुड़ी थाने में एफआइआर भी दर्ज करायी थी. उसके बाद कई महीने का समय बीत जाने के बाद भी पुलिस ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है.

Powered by Blogger.