Header Ads

नेपाली भाषा आंदोलन की तर्ज पर एकजुट हों गोरखा : विमल गुरुंग

दार्जिलिंग : ''नेपाली भाषा यदि हमारी पहचान से जुड़ी है तो गोरखालैंड हमारी अस्मिता से। सिक्किम व देश के अन्य हिस्सों में रह रहे गोरखा, अलग गोरखालैंड आंदोलन में भी नेपाली भाषा आंदोलन जैसी एकजुटता दिखाएं। तभी यह सपना साकार हो सकेगा''। यह बातें गोजमुमो व जीटीए प्रमुख विमल गुरुंग ने कहीं। वे स्थानीय गोरखा रंगचमंच भवन में गोजयुमो की ओर से नेपाली भाषा मान्यता दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। नेपाली भाषा का जीटीए की अधिकृत भाषा के रुप में प्रयोग पूर्ण रुप से शुरू हो जाने की जानकारी देते हुए विमल गुरुंग ने राज्य सरकार से पत्राचार तक किए जाने की जानकारी दी। साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि 23 करोड़ की धनराशि से बनने वाली नेपाली भाषा एकेडमी के लिए जीटीए आइएनसी विभाग जल्द ही निविदाएं आमंत्रित करेगा। 

साथ ही जीटीए प्रमुख ने नेपाली भाषा आंदोलन के दौरान नगर के चौक बाजार में शहीद हुए आंदोलनकारियों की याद में समाधि बनवाने की भी घोषणा की। नेपाली भाषा को गोरखाओं की अस्मिता से जोड़ते हुए कहा कि यह गोरखाओं की पहचान से जुड़ी हुई है। उन्होंने राज्य सरकार पर गोरखाओं को विभिन्न जातियों में बांटने का आरोप लगाया व कहा कि विभिन्न जातियों का बोर्ड बना रही है। जिससे यह स्पष्ट होता है कि सरकार, फूट डालो और राज करो की नीति को आत्मसात करके चल रही है। साथ ही चुनौती दी कि सरकार सन 2015 तक गैर जनजातीय 11 गोरखा जनजातियों को जनजाति का दर्जा दिलाकर दिखाए। विमल गुरुंग ने अंतिम दम तक गोरखालैंड के लिए संघर्ष करने की प्रतिबद्धता दोहराई। इससे पूर्व उन्होंने सिक्किम के पूर्व मुख्यमंत्री नरबहादुर भंडारी को सम्मानित किया। 

अपने सम्मान को सम्पूर्ण सिक्किमवासियों का सम्मान बताते हुए भंडारी ने दार्जिलिंग के लिए जान तक दे देने की प्रतिबद्धता जताई। उन्होंने गोरखाओं से नेपाली भाषा को मान्यता मिलने के बाद अब गोरखालैंड राज्य गठन के लिए संघर्ष करने का आह्वान किया। वहीं नेपाली भाषा के वरिष्ठ साहित्यकार डा. इंद्र बहादुर राई ने कहा कि राजनीति ने सबको बांटा है, परंतु भाषा ने सभी को एक सूत्र में बांधा। इसके अलावा विभिन्न रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित हुए। इस अवसर पर गोजयुमो समर्थकों व लक्ष्मी कालिकोटे सहित बड़ी संख्या में साहित्यकार व स्थानीय नागरिक उपस्थित रहे।

Powered by Blogger.