Header Ads

जो मुझे वोट देगा, उसे करोड़पति बना दूंगा : पवन कुमार चामलिंग

गंगटोक : सिक्किम के मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग ने प्रदेश के उन सभी लोगों को करोड़पति बनाने का वादा किया है जो 12 अप्रेल को होने वाले विधान सभा चुनाव में उनकी पार्टी सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) अपना वोट देंगे। हालांकि, उनके विरोधियों ने इसका विरोध किया है। एसडीएफ के घोषणापत्र जारी करते हुए चामलिंग ने कहा कि आगामी दिनों में हम कर्मठतापूर्वक काम करेगे ताकि भविष्य में हर प्रदेशवासी को करोड़पति बनाया जा सके। 2012-2013 में एक लाख 42 हजार 625 प्रति व्यक्ति आय इस बंदरगाह विहीन राज्य की देश में आय सबसे ज्यादा है और राष्ट्रीय औसत से कहीं ज्यादा है। एसडीएफ नेताओं ने दावा किया अगर पांचवी बार लगातार पार्टी को सत्ता मिलती है तो राज्य सरकार एक करोड़ प्रति व्यक्ति आय का लक्ष्य रखेगी। पार्टी प्रवक्ता भीम दहल ने बताया कि हमारी सरकार के बेहतरीन काम के कारण ही राज्य ने आर्थिक तौर पर काफी तरक्की हासिल की है। अब हम और अच्छे से काम करेंगे ताकि सिक्किम को आर्थिक तौर पर और संपन्न बनाया जा सके।

हालांकि, विरोधियों ने सत्ताधारी पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि करोड़पति बनाने का सपना अव्यवाहरिक से ज्यादा कुछ नहीं है। सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) के महासचिव जैकब खलिग ने आरोप लगाया कि एसडीएफ के नेता जरूर करोड़पति बन गए हैं क्योंकि वे लोग गले तक भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं। मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग के खिलाफ 2-3 साल पहले शिकायत की गई थी, लेकिन उन्होंने सीबीआई जांच के आदेश नहीं दिए। उन्होंवे कहा, वर्तमान विधानसभा में विपक्ष के नहीं होने के चलते सरकार के कामकाज पर नजर नहीं रखी जा सकती। पिछले चुनावो में एसडीएफ ने सभी 32 सीटें जीत ली थीं।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री नर बहादुर भंडारी ने भी करोड़पति योजना को एक मजाक बताते हुए कहा कि यह एक हास्यपद है कि सत्ताधारी पार्टी ऎसे दावे कर रही है। चामलिंग इतने भ्रष्ट हैं कि जिस वक्त वह सत्ता से बाहर होंगे, जेल की हवा खाएंगे। भंडारी ने आरोप लगाया कि चामलिंग ने खुद के खिलाफ सीबीआई जांच को मंजूरी नहीं दी। जिस दिन एसडीएफ सत्ता से बाहर होगी, सीबीआई को चामलिंग की जांच करने से कोई नहीं रोक पाएगा। हालांकि, सत्ताधारी पार्टी का कहना है कि 1994 मे जब पार्टी सत्ता में आई थी, उस वक्त प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय महज 9 हजार रूपए थी। लेकिन, सरकार ने लोगों के विकास के लिए जो सकारात्मक कदम उठाए, उसी के कारण प्रति व्यक्ति आए बढ़ी।
Powered by Blogger.